भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। मछली पालन के नाम पर मप्र समेत अन्‍य राज्‍यों में तीन हजार किसानों से करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले जालसाज कंपनी के एमडी विजेंद्र कुमार कश्यप को आखिरकार पुलिस ने गुरुग्राम से गिरफ्तार कर ही लिया है। आरोपित मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, यूपी, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा समेत नौ राज्यों से फरार चल रहा था। भोपाल में कोहेफिजा और क्राइम ब्रांच में आरोपित के खिलाफ आधा दर्जन अपराध दर्ज हैं। पुलिस को बीते तीन माह से आरोपित की तलाश थी। पुलिस की एक टीम 10 दिन से लगातार सर्विलांस पर रखे हुई थी। जैसे ही विजेंद्र की सटीक लोकेशन मिली, पुलिस ने उसे दबोच लिया। पुलिस ने आरोपित को जिला अदालत में पेश किया। जहां से उसे मंगलवार तक रिमांड पर लिया है।

एएसपी रामसनेही मिश्रा के अनुसार अपनी कंपनी के नाम से आरोपित विजेंद्र ने किसानों को दोगुनी रकम का लालच देकर निवेश कराया था। उसने तालाब खोदने, मछली के बीज डालने समेत अलग-अलग स्कीम के तहत किसानों से पांच-पांच लाख रुपये निवेश कराए और जब दोगुनी रकम देने की बारी आई तो पैसा बटोरकर भाग निकला। ठगी होने का अहसास होने पर 9 राज्यों के अलग-अलग जिलों के थानों में आरोपित के खिलाफ धोखाधड़ी के केस दर्ज किए गए। आरोपित लंबे समय से फरार था। उसकी गिरफ्तारी पर अफसरों ने 30 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। आरोपित के छह बैंकों के खाते सीज कर दिए हैं।

सूत्रों का कहना है कि आरोपी विजेंद्र कश्यप कुछ साल पहले 100 करोड़ रुपए की ठगी कर चुका है। उसने पे ई-रिचार्ज नाम की कंपनी के जरिए हजारों युवकों के साथ ठगी की थी। इसके अलावा सनराइज कंपनी में बतौर सीए रहते हुए करोड़ों रुपए की हेराफेरी भी की थी। मामले में पुलिस को उसके साथी विनय वर्मा निवासी हरियाणा की तलाश है। फिलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local