Vypam Scam : भोपाल (नईदुनिया स्टेट ब्यूरो)। व्यापमं घोटाले में अब कई साल तक परीक्षा नियंत्रक रहे सुधीर सिंह भदौरिया और व्यापमं के माध्यम से हुईं 29 भर्ती परीक्षाओं पर जल्द ही शिकंजा कसेगा। घोटाले की अदालती लड़ाई वाले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह तथा लंबे समय से लड़ाई लड़ रहे व्हीसल-ब्लोअर्स की टीम पारस सकलेचा, डॉ. आनंद राय, प्रशांत पांडे और आशीष चतुर्वेदी के बीच सवा घंटे तक बंद कमरे में बैठक हुई। इसमें व्हीसल ब्लोअर ने दिग्विजय सिंह को दस्तावेजों के साथ व्यापमं के माध्यम से हुई प्रवेश और भर्ती परीक्षाओं की गड़बड़ियों के बारे में बताया। बैठक में पूर्व विधायक व व्हीसल ब्लोअर सकलेचा ने कहा कि व्यापमं घोटाले में अब तक केवल आठ भर्ती परीक्षाओं की जांच की है जबकि व्यापमं ने 37 भर्ती परीक्षाएं की हैं।

इनमें संविदा वर्ग एक, पुलिस आरक्षक 2007, पटवारी की 2002 व 2011, लेखापाल 2012, महिला व बाल विकास की तीन बार हुई पर्यवेक्षक भर्ती परीक्षाओं सहित कई ऐसी परीक्षाओं को न तो एसटीएफ ने जांच की और न ही सीबीआई ने इस तरफ कार्रवाई की। सकलेचा ने व्यापमं प्रवेश परीक्षाओं में मोटी राशि लेकर राज्य व एनआरआई कोटे के दुरुपयोग के दस्तावेजों के साथ भी बात को रखा।

भदौरिया के कार्यकाल की जांच न होने पर नाराजगी : व्हीसल ब्लोअर डॉ. आनंद राय ने बताया कि उन्होंने व्यापमं के परीक्षा नियंत्रक सुधीर सिंह भदौरिया के कार्यकाल की प्रवेश परीक्षाओं को एसटीएफ द्वारा जांच में नहीं लिए जाने का मुद्दा उठाया। पीएमटी 2008, पीएमटी 2009, पीएमटी 2010, पीएमटी 2011 की जांच की जाना चाहिए लेकिन इन परीक्षाओं की जांच के लिए प्रयास ही नहीं किए गए। इसी तरह परिवहन आरक्षक भर्ती परीक्षा में गोंदिया के लोगों की भर्ती में भी कार्रवाई नहीं की गई।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket