भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि, Webinar on education policy:। वर्तमान परिदृश्य में शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने एवं अनुसंधान को बढ़ावा देने की जरूरत है। समय के साथ शिक्षा के क्षेत्र में भी बदलाव हुआ है, इसलिए अधिकृत रूप से बदलाव लागू होने चाहिए। संत हिरदाराम गर्ल्‍स कॉलेज में राष्ट्रीय शिक्षा नीति विषय पर वेबिनार को संबोधित करते हुए विशेषज्ञों ने यह बात कही। मुख्य वक्ता डॉ. नित्यानंद प्रधान ने कहा कि भारतीय शिक्षा व्यवस्था की विश्व स्तर पर पहुंच सुनिश्चित करने के लिए कई परिवर्तन करने की जरूरत है। छात्रों के कौशल विकास एवं रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देने की भी जरूरत है। उन्होंने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंसी, थ्रीडी प्रिंटिंग, रोबोटिक्स, डाटा एनालिसिस एवं जैव प्रौद्योगिकी जैसे विषयों को पाठ्यक्रम में शामिल करने से छात्रों की क्षमता में बढ़ोतरी होगी। नवाचार को बढ़ावा मिलेगा। डॉ. नित्यानंद ने वेबिनार से जुड़ी छात्राओं के सवालों का जवाब देते हुए उनकी शंकाओं का समाधान भी किया।

सुझाव के आधार पर ही बदलाव

प्राचार्य डॉ. डालिमा पारवानी ने कहा कि वेबिनार के माध्यम से शिक्षा नीति के बारे में जरूरी सुझाव एकत्रित करना एवं इसके क्रियान्वयन के प्रयास करना है। समय तेजी से बदल रहा है, इसलिए बदलाव भी तेजी से हो रहे हैं। हमें समय के साथ बदलने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि शिक्षा एक ऐसा विषय है, जिसमें संस्कार भी शामिल हैं। अच्छे संस्कार ग्रहण करना भी जरूरी है। वेबिनार के प्रारंभ में वाणिज्य विभाग की विभागाध्यक्ष राणा शहवाल ने स्वागत संबोधन दिया। इस वेबिनार में बड़ी संख्या में छात्राओं ने भाग लिया। कोरोना काल में छात्राओं के लिए यह उपयोगी साबित हुआ।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags