भोपाल। कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ अधिकारी पति और उनकी पत्नी का विवाद महिला थाना के परिवार परामर्श केंद्र में पहुंचा। पत्नी ने शिकायत की थी कि पति ने धोखे में रखकर शादी की और अपने मांगलिक होने की बात छुपाई। दोनों का चार साल का रिश्ता टूटने की कगार पर पहुंच गया है, क्योंकि पति की कुंडली में मांगलिक दोष है। मामले की दुबारा काउंसिलिंग की गई तो पत्नी ने अजीबो-गरीब शर्त रख दी। जिसे पति मानने के लिए तैयार नहीं है।

पत्नी का कहना है कि मंगल दोष के कारण उसे अपनी जान का खतरा महसूस हो रहा है। पत्नी ने मांग रखी है कि पति पहले उसे तलाक दें, फिर पेड़ से शादी करें और इसके बाद फिर से उनसे शादी कर लें। पत्नी की इस शर्त को पति बिल्कुल मानने को तैयार नहीं हैं। उनकी एक डेढ़ वर्षीय बेटी भी है।

मामला रचना नगर में रहने वाले एक परिवार का है। इस मामले में परामर्श केंद्र में काउंसलर दंपती की लंबी काउंसिलिंग की गई। परामर्श केंद्र से दंपती को 20 दिन का समय दिया गया, जिससे वे दोनों सही फैसला ले सकें और अपने बीच के विवाद को सुलझा सकें।

दरअसल, दो माह पहले स्टोर रूम की सफाई के दौरान पत्नी को एक पुरानी डायरी मिली, जिसमें पति के जन्म की तारीख और समय दर्ज था। वहीं शादी के समय दी गई कुंडली में जन्म की तारीख और समय अलग था। जब पत्नी ने डायरी से मिले जन्म की तारीख व समय से कुंडली बनवाई तो पंडित ने पति को मांगलिक बता दिया।

पति ने कहा-एक ही घर में बेगानों की तरह रह रहे हैं

पति ने काउंसलर को बताया कि पत्नी का अंधविश्वास खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। दोनों एक ही घर में बेगानों की तरह रह रहे हैं। उसने बताया कि पत्नी कई ज्योतिष और लोगों से मिलकर मंगल दोष का तोड़ पूछ रही है। उसने शर्त रखी है कि हम दोनों को अभी तलाक ले लेना चाहिए।

इस तरह यदि मंगल दोष का थोड़ा भी प्रभाव मेरे ऊपर हुआ होगा तो उससे मैं मुक्त हो जाऊंगी। इसके बाद तुम पेड़ या घड़े से शादी कर लो, इससे तुम्हारा मंगल दोष निवारण हो जाएगा। फिर साल भर बाद हम दोनों आपस में शादी कर लेंगे। पति का कहना है कि इन सभी बातों को वह नहीं मानता और इतना सब नहीं कर सकता है।

मंगल दोष का निवारण करना होगा

पत्नी का कहना है कि वह मानसिक रूप से बहुत परेशान हो गई है। उसने कहा कि आज भी शिक्षित समाज या उच्च वर्गीय परिवार मांगलिक दोष निवारण के लिए कुछ न कुछ करते हैं। कई लोग मंगल दोष के निवारण के लिए पेड़ से शादी करते हैं, जिससे निवारण होता है। ज्योतिष में ऐसा ही करने की सलाह दे रहे हैं।

- दोनों पक्षों को समझाकर साथ रहने के लिए भेजा गया है, लेकिन पत्नी बिल्कुल मानने को तैयार नहीं है। उसने शर्त रखी है कि पेड़ से शादी कर फिर उससे शादी करें। पति इसे पत्नी का अंधविश्वास मान रहा है और वह इस शर्त के लिए बिल्कुल तैयार नहीं है। - मोहिब अहमद, काउंसलर परिवार परामर्श केंद्र

Posted By: Nai Dunia News Network