नेपानगर/बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नेपानगर के घाघरला गांव से लगे जंगल में अवैध अतिक्रमण हटाने गए वन और पुलिस कर्मियों पर गत 7 नवंबर को तीर-गोफन से हमला करने के आरोप में एक और अतिक्रमणकारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपित की पहचान भुवन सिंह बारेला निवासी बेलथड़ थाना निंबोला के रूप में की गई है। आरोपित के पास से एक गोफन बरामद हुआ है। पुलिस के मुताबिक पूछताछ में उसने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया है। आरोपित को शनिवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा। ज्ञात हो कि इस हमले के बाद नेपानगर पुलिस ने 29 लोगों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज किया था। पुलिस अधीक्षक राहुल लोढ़ा ने तीन आरोपितों की गिरफ्तारी पर दस-दस हजार और अन्य पर पांच-पांच हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनकामना प्रसाद द्वारा विशेष टीम का गठन किया गया है। शुक्रवार को मुखबिर के जरिए इस टीम को सूचना मिली थी कि कुछ लोग घाघरला के जंगल से गुजरने वाले हैं। जिसके बाद टीम ने घेराबंदी कर आरोपित भुवन सिंह को गिरफ्तार कर लिया। इस कार्रवाई में उप निरीक्षक शशिकांत गौतम, सहायक उप निरीक्षक सुनील पाटिल, प्रधान आरक्षक संदीप कैथवास, राय सिंह, रमेश वास्कले, राजेश पाटिल, आरक्षक अमित अवस्थी, भरत, मनोज और मुकेश मोरे की सराहनीय भूमिका रही।

तीन आरोपित बड़वानी, खंडवा व खकनार के

गौरतलब है कि एक दिन पहले पुलिस ने जिन तीन आरोपितों को पहले पकडा वह सभी घाघरला क्षेत्र के रहने वाले नहीं हैं। ये बडवानी, खंडवा और खकनार के रहने वाले हैं। जबकि शुक्रवार को भी जो आरोपित को पकडा गया वह भी ग्राम बेलथड धूलकोट का रहने वाला है। वहां रहने के बावजूद घाघरला में अतिक्रमणकारी बनकर रह रहा था और पुलिस, वन विभाग, राजस्व की टीम पर हमला करने वालों में शामिल था। सूत्रों के अनुसार आरोपितों ने पूछताछ में स्वीकारा है कि अधिकांश अतिक्रमणकर्ता उनके रिश्तेदार हैं। उसके कब्जे से गोफन भी बरामद किया गया हैं। गौरतलब है कि पहले से भी कईं बार यह बात उजागर हो चुकी है कि यहां अतिक्रमण करके रहने वाले अधिकांश अतिक्रमणकर्ता बाहरी हैं। 07 नवंबर को मौके से खरगोन, बडवानी के रहने वाले अतिक्रमणकारियों के आधार कार्ड, पैन कार्ड आदि दस्तावेज भी मिले थे। पुलिस ने आरोपितों की गिरफ्तारी कर जब उनके नाम, पते की जानकारी ली तो पता चला सभी घाघरला के बाहर के रहने वाले हैं। बताया जा रहा है कि करीब 350 परिवारों में से आधे से ज्यादा बाहरी ही हैं।

वन विभाग को अब तक नहीं लौटाई छीनी गई बंदूक

अतिक्रमणकारियों ने वन विभाग, राजस्व और पुलिस टीम पर हमला कर तीन बंदूकें छीन ली थी। दो बंदूकें पिछले दिनों रिकवर कर ली गई। जबकि वन विभाग की एक बंदूक अब तक अतिक्रमणकर्ताओं ने नहीं लौटाई। मामले में शुरुआत से ही एसपी राहुल कुमार लोढा रूचि ले रहे हैं। उन्हीं की सक्रियता से पहले भी दो बंदूकें जब्त हो पाई और अतिक्रमणकर्ताओं पर इनाम घोषित किया गया। अब एसपी द्वारा गठित टीम द्वारा ही मामले में सक्रियता दिखाते हुए कार्रवाई की गई।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस