बुरहानपुर। देशभर के 100 से अधिक संत और कबीर साधक मंगलवार को बुरहानपुर में जुटे। यहां उन्होंने कबीर के दोहे के साथ उनके गूढ़ रहस्य को समझा। नागझिरी स्थित श्री कबीर निर्णय मंदिर में विभिन्ना आयोजन हुए।

कबीर जयंती पर नागझिरी स्थित मंदिर में सुबह 9 बजे भजन, कीर्तन, सत्संग और गुरु पूजा की गई। इसके बाद स्थानीय और बाहर से आए साधकों के लिए प्रसादी का वितरण हुआ। श्री कबीर निर्णय मंदिर के दानवीरदास साहेब ने बताया कबीर का जन्म 1456 में और मृत्यु 1575 में हुई थी। बुरहानपुर में कबीर मंदिर की स्थापना 200 साल पहले हुई थी। तब से यहां जयंती पर कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। कबीर के रहस्य और सीख को जीवन में उतारना ही सच्ची भक्ति कहलाती है।

बीजक महाविद्यालय

शहर में कबीर का बीजक महाविद्यालय है जहां देश और विदेश से संत और साधक कबीर के दोहों को समझने पहुंचते हैं। महाविद्यालय में कबीर के आचार-विचार और उपदेशों को विस्तार से पढ़ाया जाता है।-निप्र

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags