-एक दिनी हड़ताल पर रहे बैंककर्मी

-प्रदर्शन कर लगाए नारे

बुरहानपुर/नेपानगर/खकनार। नईदुनिया प्रतिनिधि

विभिन्न मांगों को लेकर बुधवार को स्टेट बैंक को छोड़कर लगभग सभी बैंकों के कर्मचारी हड़ताल पर रहे। ऑल इंडिया बैंक एम्प्लाइज एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष माणिकचंद मोरे ने बताया कि संगठन के आह्वान पर एक दिवसीय हड़ताल आयोजित की गई थी। इसमें प्रमुख रुप से पुरानी पेंशन बहाली, बैंकों में कर्मचारियों की भर्ती करने, बैंकों का विलय रोकने और कें द्र सरकार की श्रम विरोधी नीतियों को खत्म करने जैसी मांगें शामिल थीं। बैंकों की हड़ताल से करोड़ों रुपए का लेन-देन प्रभावित हुआ। ग्राहक बैरंग लौटे।

बुधवार को बैंकों के कर्मचारी कार्यालय पहुंचे लेकि न काम करने की बजाय गेट पर खड़े होकर अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन कि या और नारे लगाए। बताया गया है कि इस हड़ताल में पांच ट्रेड यूनियन शामिल थीं। बैंकों की हड़ताल के चलते व्यापारी वर्ग जरुर परेशान हुआ, लेकि न एटीएम में नकदी होने और ऑनलाइन पेमेंट आदि होने के कारण आम लोगों को ज्यादा परेशानी नहीं हुई। बैंक कर्मचारियों का कहना था कि यदि सरकार ने उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया तो आगे बड़े आंदोलन कि ए जाएंगे।

एलआईसी कर्मचारी भी हड़ताल पर रहे

बैंकों के साथ ही एलआईसी कर्मचारियों की भी बुधवार को देशव्यापी हड़ताल रही। एआईआईईए के आह्वान पर एलआईसी कर्मचारी यूनियन के सभी पदाधिकारी और कर्मचारी कार्यालय प्रांगण में सुबह से धरना प्रदर्शन करते रहे। इस दौरान एक सभा भी हुई, जिसे यूनियन के अध्यक्ष प्रमोद सावल्देकर, सचिव विलास गोटीवाले सहित अन्य पदाधिकारियों ने संबोधित कि या। उन्होंने अपनी 10 सूत्रीय मांगें जल्द पूरी करने की मांग की। सभा में यूनियन के संजय वाणे, अजय माहेश्वरी, सुरेश मराठे, सुरेंद्र भावसर, रजनीश काले, महेश छत्‌रे आदि मौजूद थे।

बैंक हड़ताल से ग्रामीणों को लेनदेन में आई परेशानी

राष्ट्र्‌रव्यापी आंदोलन के तहत बुधवार को खकनार तहसील में बैंकें बंद रही। कर्मचारी, अधिकारी सहायक आदि कार्मिक भी हड़ताल पर रहे। बैंककर्मिकों के हड़ताल पर रहने से करोड़ों का लेन.देन ठप रहा। उपभोक्ताओं के चेक भी अटके रहे। हड़ताल से अनभिज्ञ लोग सुबह.सुबह बैंक पहुंचे। पर बैंक में ताला लटकने पर उन्हें खाली हाथ ही लौटना पड़ा। एमटीएम का उपयोग करने वाले उपभोक्ताओं ने एटीएम से ही नकदी निकासी की। वहीं दोपहर बाद सरकारी बैंकों के एटीएम भी खाली हो गए। जिसमें के वल मुख्यालय में दो ही एटीएम मशीन है लेकि न एक मशीन दो दिनों से कार्य नही करने से ग्रामीणों को खाली हाथ लौटना पड़ा चलते कारण मजदूर को पैसे नहीं मिलने के कारण घर का सामान सहित अन्य खरीदारी नहीं कर पाए।

बैंकों की हड़ताल से कारोबार प्रभावित

देशभर सहित नेपानगर में भी राष्ट्रव्यापी हड़ताल के चलते कारोबार प्रभावित हुआ। बुधवार को शहर की दो बैंकें बंद रही। जिसके कारण शहर व ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले ग्राहकों को परेशानी हुई। एसबीआई शाखा तो खुली रही, लेकि न बैंक ऑफ इंडिया और नर्मदा झाबुआ बैंक में हड़ताल के कारण कामकाज नहीं हुआ। सुबह से ही लोग बैंकों में पहुंच गए थे, लेकि न वहां जाकर पता चला कि हड़ताल है। तब लोग वापस लौटे।

Posted By: Nai Dunia News Network