नेपानगर (नईदुनिया न्यूज)। कोरोना कर्फ्यू के दौरान सरकार द्वारा गरीब परिवार के लोगों को उचित मूल्य की दुकानों से तीन माह का राशन फ्री दिया जा रहा है, लेकिन राशन देते-देते मंगलवार को अचानक कंट्रोल दुकान संचालकों को आदेश आए कि अब राशन 15 अप्रैल से पहले वाले उपभोक्ताओं को देना है। 15 अप्रैल के बाद के उपभोक्ताओं को राशन नहीं देना है।

यानी जिन्होंने अप्रैल का राशन नहीं लिया उन्हें राशन मिलेगा। ऐसे में अधिकांश उपभोक्ता आक्रोशित हो गए। वेलफेयर सेंटर स्थित कंट्रोल दुकान पर उपभोक्ताओं और दुकानदार के बीच काफी देर तक

बहसबाजी हुई। कंट्रोल दुकान संचालक ने आदेश का हवाला दिया कि

अभी हमारे पर शासन की ओर से ही आदेश आए हैं।

गौरतलब है कि मप्र सरकार ने गरीब परिवार के लोगों को तीन माह का राशन फ्री देने की घोषणा कर रखी है। वेयर हाउस से लगातार माल कंट्रोल दुकानों को भेजा जा रहा है और एक मई से इसका वितरण भी शुरू हो चुका था, लेकिन इसी बीच 4 मई को नए आदेश आने से गरीब परिवार के लोग

आक्रोषित हो गए, क्योंकि अधिकांश लोग प्रतिदिन कंट्रोल दुकानों के चक्कर लगा रहे थे, लेकिन भीड़ अधिक होने के कारण उन्हें राशन नहीं मिल पा रहा था।

बिना पैसा लिए वितरित

करना है राशन

कंट्रोल दुकानों को ग्राहकों से बिना कोई पैसा लिए अनाज वितरित करना है। यहां तक कि हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान ने घोषणा की थी कि जिन लोगों ने राशन पैसे देकर लिया था उन्हें अब अगले महीने एक महीने का राशन फ्री दिया जाएगा, लेकिन इससे पहले ही नए आदेश आने के बाद लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि कोरोना कर्फ्यू के कठीन दौर में उनके साथ यह मजाक क्यों हो रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags