बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना मंडी की छवि बना चुकी रेणुका मंडी परिसर स्थित थोक सब्जी मंडी की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए अब जिला प्रशासन ने पास सिस्टम लागू करने की योजना बनाई है। अगले एक-दो दिन में यह व्यवस्था लागू हो सकती है।

यहां आने वाले किसानों, थोक व फुटकर व्यापारियों को पास जारी होने के बाद मुख्य प्रवेश द्वार से बिना पास के किसी अन्य को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। इस संबंध में कलेक्टर प्रवीण सिंह ने एसडीएम केआर बड़ोले व मंडी प्रशासन के अफसरों को निर्देश जारी कर दिए हैं। जिला प्रशासन की मंशा थोक सब्जी मंडी में अधिकतम 500 तक की संख्या नियंत्रित करने की है। ज्ञात हो कि वर्तमान में यहां सब्जी का थोक कारोबार करने वाले व्यापारियों की संख्या ही 100 के पार है। लगभग इतने ही किसान रोजाना माल लेकर पहुंचते हैं, जबकि फुटकर सब्जी विक्रेताओं व दीगर खरीददारों की तादाद करीब एक हजार के आसपास होती है।

इस संबंध में नईदुनिया ने अपने छह मई के अंक में प्रमुखता से खबर प्रकाशित करते हुए जिला प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया था। जिसमें हजारों की भीड़ वाली तस्वीर के साथ बताया गया था कि किस तरह व्यापारी व आम नागरिक बिना मास्क और शारीरिक दूरी का पालन किए रोजाना यहां सब्जी का क्रय-विक्रय कर रहे हैं। इससे जिला प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए किए जा रहे सारे प्रयासों पर पानी फिर सकता है। कलेक्टर प्रवीण सिंह ने इसे गंभीरता से लेते हुए शुक्रवार रात पुलिस अधीक्षक के साथ मंडी का दौरा भी किया था। साथ ही अधिकारियों के पास सिस्टम लागू कर भीड़ नियंत्रित करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर के निर्देश पर मंडी के अन्य शेड भी खाली कराए गए हैं, ताकि शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते हुए थोक सब्जी का कारोबार हो सके और आम नागरिकों को इसकी आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके।

बचत के लालच में पहुंचे

लोगों के बनाए चालान

कलेक्टर प्रवीण सिंह के निर्देश के बाद पुलिस अधीक्षक राहुल लोढ़ा ने शिकारपुरा थाना पुलिस को निर्देश दिए थे कि रोज सुबह बल लगाकर ऐसे लोगों की जांच की जाए जो थोड़ी सी बचत के लालच में थोक मंडी से सब्जी खरीदने पहुंच रहे हैं। शनिवार सुबह पुलिस ने ऐसे दर्जनों लोगों के चालान बनाए, जबकि कई लोगों को मंडी के पास से खदेड़ कर घर भी लौटाया। बताया गया है कि पास सिस्टम लागू होने के बाद बिना पास के मंडी पहुंचने वाले लोगों को गेट से लौटाने के साथ ही उनके खिलाफ चालानी कार्रवाई भी की जा सकती है। ऐसे लोगों से मंडी प्रशासन ने भी घरों पर ही रहने और मोहल्ले में पहुंचने वाले फुटकर विक्रेताओं से जरूरत की सब्जी क्रय करने का आग्रह किया है। ज्ञात हो प्रशासन ने गत सोमवार से ही शनवारा की जगह रेणुका मंडी परिसर में सब्जी के थोक कारोबार को स्थानांतरित किया था, लेकिन यहां हालात और ज्यादा बिगड़ गए। इसका एक कारण कर्फ्यू के कारण अन्य कारोबार से जुड़े लोगों का

सब्जी के कारोबार में उतरना भी बताया जा रहा है।

इस तरह की हो सकती है व्यवस्था

जिला प्रशासन और मंडी के सूत्रों की मानें तो दो तरह के पास जारी किए जा सकते हैं। इसमें एक ग्रीन और दूसरा यलो पास होगा। ग्रीन पास सब्जी लेकर आने वाले किसानों और थोक व्यापारियों को जारी किए जा सकते हैं, जबकि फुटकर विक्रेताओं को यलो पास मिलेंगे। पास जारी करने के लिए मंडी प्रशासन पहले से सूचीबद्ध फुटकर व्यापारियों की लिस्ट निकाल रहा है। इसका लाभ हालिया कारोबार में उतने लोगों को मिलने की संभावना बेहद कम बताई गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags