Burhanpur news: बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। एचआइवी संक्रमण अज्ञानता के कारण होता है। इसलिए एचआइवी की जानकारी ही उससे बचाव का साधन है। जिस तरह कोविड के संक्रमण से मास्क पहन कर बचा जा सकता है, उसकी तरह एचआइवी की पूरी जानकारी हो तो संक्रमण से बचा जा सकता है। यह बात गुरुवार को प्रभारी सीएमएचओ डा. मुमताज अंसारी ने जिला अस्पताल परिसर में विश्व एड्स दिवस पर आयोजित जागरूकता कार्यक्रम में कही। जिला एड्स नियंत्रण समिति के नोडल अधिकारी डा. आशुतोष जोशी ने कहा कि युवाओं में एचआइवी संक्रमण के प्रति जागरूकता लाना बहुत जरूरी है। जिला अस्पताल में वर्ष 2006 से अब तक हुई जांच में 1507 संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से 11 सौ मरीजों की आयु 15 से 40 वर्ष के बीच थी। इसे देखते हुए युवाओं को जागरूक करना आवश्यक है।

एचआइवी मुक्त बुरहानपुर का लिया संकल्प

जायंट्स ग्रुप की अध्यक्ष डा. फोजिया सोडावाला ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि एड्स हो या कोरोना, हमें मिलकर वैश्विक महामारी को हराना है। डा. राकेश लाड ने कहा कि भारतीय संस्कृति के अनुरूप व्यवहार करें तो एचआइवी नहीं होगा। रेड रिबन क्लब सेवासदन कालेज के राजेश काले ने एचआइवी मुक्त बुरहानपुर का संकल्प दिलाया। मानव सेवा समिति की अध्यक्ष प्रेमलता साखले भी अपनी बात रखी। कार्यक्रम के अंत में मानव श्रृंखला बनाई गई और एचआइवी को जड़ से समाप्त करने का संकल्प लिया गया। परामर्शदाताओं की टीम बनाकर जिले के चिन्हित विद्यालयों मे जागरूकता सत्र आयोजित किए गए। जिसमें लगभग 1200 विद्यार्थियों को जागरूक किया गया। इस दौरान विधिक सेवा प्राधिकरण के सदस्य जयदेव माणिक, डा. बीडी गट्टानी, काउंसलर कविता तिवारी, राजू पवार, आदित्य दीक्षित, सलमा खान सहित अन्य संस्थाओं के पदाधिकारी व सदस्य मौजूद थे।

मानव श्रृंखला बनाकर निकाली रैली

नेपानगर। पंडित जवाहरलाल नेहरू शासकीय महाविद्यालय में विश्व एड्स दिवस पर गुरुवार को कार्यशाला का आयोजन राष्ट्रीय सेवा योजना की रेड रिबन क्लब इकाई द्वारा किया गया। प्रो. बसंत कुमार सोनी ने कहा कि सावधानी ही एड्स से बचाव का साधन है। यह लाइलाज बीमारी है। खून लेते और देते समय सावधानी रखें। प्रो. अजय कुमार नावरे ने कहा यह बीमारी सर्वप्रथम दक्षिण आफ्रीका में फैली थी। इसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव होता है। कोई भी बीमारी आसानी से ठीक नहीं हो पाती। एड्स के मरीज से सहानुभूति रखें। इन मरीजों के साथ खाना खाने, उठने-बैठने, सोने या छूने से एड्स नहीं फैलता। इस अवसर पर एड्स के प्रतीक चिन्ह की मानव श्रृंखला बनाई गई। विद्यार्थियों द्वारा रैली भी निकाली गई। कार्यक्रम का संचालन डा. एमआर चौहान एनएसएस प्रभारी ने किया और कविता सेठी ने आभार जताया।

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से किया जागरूक

बुरहानपुर। विश्व एड्स दिवस पर नेपानगर जागृति कला केंद्र के कलाकारों ने ग्रामीणों को नुक्कड़ नाटक के जरिए जागरूक किया। कला केंद्र के मुकेश दरबार ने लोगों को बताया कि जानकारी अभाव में एड्स फैलता है। असुरक्षित यौन संबंध बनाने, संक्रमित सुई, संक्रमित रक्त चढ़ाने और संक्रमित मां से बधो को होता है। नेपानगर क्षेत्र के सातपायरी गांव में आयोजित जागरूकता कार्यक्रम में एड्स से जुड़ी भ्रांतियों को भी दूर किया गया। उपस्थित युवाओं से जब पूछा गया क्या एचआइवी एड्स के बारे में जानकारी है तो कुछ युवाओं ने कहा जानकारी तो थी लेकिन अधूरी थी। नाटक का निर्देशन मुकेश दरबार ने किया। इसमें रविंद्र हनोते, सैयद निसार, प्रकाश केदारे, सुनील शिंदे, मुकेश मेड़े, प्रीति सेलकर, मोनिका आदि कलाकारों ने सहभागिता की।

Vidisha News : लव जिहादियों के सर्वनाश के लिए संन्यासियों की जरूरत : प्रज्ञा

Jabalpur News : दस्तक अभियान में जबलपुर संभाग को ओवरआल परफार्मेंस में प्रथम स्थान

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close