बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिला मुख्यालय से करीब 45 किमी दूर धूलकोट क्षेत्र में शनिवार देर शाम आए आंधी तूफान और मूसलाधार बारिश ने जमकर तबाही मचाई। क्षेत्र के दर्जनों मकानों के टिनशेड कागज के टुकड़ों की तरह आसमान में उड़ते नजर आए। तेज हवा के कारण कई मकानों की कधाी जुड़ाई वाली दीवारें ढह गईं। वन विभाग के परिसर और रेस्टहाउस परिसर में लगे वर्षों पुराने दर्जनों पेड़ जड़ से उखड़ कर धराशायी हो गए। इतना ही नहीं बिजली के कई खंभे उखड़ कर गिर गए और तारें टूट गई थीं। जिसके कारण क्षेत्र में करीब 16 घंटे तक बिजली सप्लाय ठप रही। आंधी तूफान इतना तेज था कि घरों बाहर खड़ी बाइक तक काफी दूर जाकर गिरीं। कुछ समय के लिए डरे सहमे लोग घरों में कैद होकर रह गए थे। कुछ पेड़ सड़कों पर भी गिरे थे। जिससे कई मार्गों का आवागमन भी प्रभावित रहा। रविवार सुबह इन पेड़ों को काटकर अलग किया गया। जिन मकानों के टिनशेड उड़े हैं उनका अनाज सहित गृहस्थी का सारा सामान बारिश में भीग गया। जिससे अब उनके सामने सिर छिपाने के साथ ही भोजन का संकट भी खड़ा हो गया है। ग्रामीणों के मुताबिक ऐसा आंधी तूफान उन्होंने इससे पहले कभी नहीं देखा था।

इन क्षेत्रों में ज्यादा नुकसान

आंधी तूफान के कारण सबसे ज्यादा नुकसान धूलकोट के फोकटपुरा मोहल्ले में होना बताया गया है। यहां अधिकांश ग्रामीणों के मकान टिनशेड वाले हैं। उनके टिनशेड उड़ने के साथ दीवारें तक ढह गई हैं। गनीमत है कि यहां कोई जनहानि नहीं हुई। सुबह से ग्रामीण आसपास पड़े टिन व गृहस्थी का अन्य सामान एकत्र करते नजर आए। रविवार को अधिकांश लोग अपने घरों की मरम्मत में जुटे रहे। बिजली गुल हो जाने के कारण पंचायत चुनाव की मतगणना का काम भी प्रभावित रहा। मतदान दलों को मतगणना करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। लंबे समय तक बिजली सप्लाय बंद रहने से मोबाइल सेवा भी ठप रही।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close