बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के प्रतापपुरा क्षेत्र की एक महिला के साथ आनलाइन फ्राड कर करीब चार लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। हालांकि समय रहते महिला ने पुलिस की साइबर सेल को इसकी सूचना दे दी। जिससे पुलिस ने विभिन्न खातों को फ्रीज करा महिला को 3.72 लाख रुपये वापस दिला दिए गए। साइबर ठगों ने पहले महिला के मोबाइल पर ऐनी डेस्क एप डाउनलोड करवाया था। इसके बाद उसके स्टेट बैंक के क्रेडिट और डेबिट कार्ड से यह राशि ट्रांसफर की थी। पुलिस अधीक्षक राहुल लोढ़ा ने बताया कि लगातार लोगों को आनलाइन ठगी के प्रति जागरूक किया जा रहा है। साथ ही तुरंत सूचना मिलने पर ठगी गई राशि वापस भी दिलाई जा रही है। बावजूद इसके लोग आनलाइन ठगी का शिकार हो रहे हैं। उन्होंने लोगों से सतर्क रहने और किसी को भी ओटीपी, पासवर्ड नहीं बताने की अपील की है।

इस तरह हुई ठगी की वारदात

महिला के मुताबिक उसे एसबीआई का क्रेडिट कार्ड रिन्यू कराना था। इसके लिए गूगल पर कस्टमर केयर नंबर तलाश कर फोन किया। फोन उठाने वाले ने क्रेडिट कार्ड के संबंध में पूरी जानकारी लेकर इसकी प्रक्रिया बताई। उसने फोन चालू रखवा कर गूगल प्ले स्टोर से पहले एनी डेस्क एप इंस्टाल कराया। फिर उसने मोबाइल पर आया पासवर्ड एप में डालने कहा। इसके बाद ठग ने मोबाइल पर आए तीन ओटीपी बताने के लिए कहा। इसके कुछ देर बाद ही उसके खाते से पहले 1.60 लाख, 1.64 लाख, 48000 और 25000 रुपये निकल गए। तब जाकर उसे आनलाइन ठगी का पता चला और उसने पुलिस की साइबर सेल को सूचना दी। साइबर सेल ने तुरंत फ्लिपकार्ट व एरोन पे के नोडल अधिकारियों से संपर्क कर ट्रांजेक्शन फ्रीज कराए और महिला के खाते में 3.72 लाख रुपये वापस कराए। इस कार्रवाई में साइबर सेल के आरक्षक दुर्गेश, मनोज, सत्यपाल की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close