नेपानगर/बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इस साल भी नगर में दशहरे के दूसरे दिन भी माताजी की मूर्तियों के विसर्जन का सिलसिला जारी रहा। विसर्जन के लिए शनिवार दोपहर दो बजे बाद मूर्तियों को लेकर समिति सदस्य निकले। हालांकि शुक्रवार को विजयदशमी के दिन भी अंचल की कुछ मूर्तियां विसर्जित की गई थी। जबकि अंचल से शनिवार को भी कुछ मूर्तियां, झांकियां विसर्जन के लिए आई। प्रशासन ने मूर्तियों के विसर्जन के लिए ताप्ती नदी पुल स्थित कुंड में व्यवस्था जुटाई थी। यहां सुरक्षा की दृष्टि से होमगार्ड, पुलिस जवानों के अलावा छह तैराक भी तैनात किए गए। साथ ही आमजन से अपील की गई थी कि मूर्तियों का विसर्जन किसी भी स्थिति में शाम छह बजे के पहले कर लिया जाए।

इस बार कोविड-19 के साथ ही आचार संहिता को देखते हुए नियम लागू किए गए थे। वहीं कोरोना संक्रमण के कारण पिछले दो साल से नगर में नव दुर्गा उत्सव का उत्साह नहीं था, लेकिन इस बार अधिकांश जगह दुर्गा मूर्तियां बैठाई गई। साथ ही चार पांच स्थानों पर घट स्थापना भी की गई। कुछ वार्डों के रहवासियों ने एक दिन पहले ही पांधार नदी में घट स्थापना का विसर्जन किया। नगर में पांच जगह दुर्गा माता की मूर्तियां स्थापित की गई थी। जिसमें क्रिकेट ग्राउंड, ई-टाइप एरिया, बुधवारा बाजार, एकता नगर, मनोज टाकिज शामिल है। जबकि चार जगह माताजी की घट स्थापना की गई थी। इनमें शीतला माता मंदिर, कालका माता मंदिर, नगर पालिका, मातापुर बाजार स्थित वैष्णव माता मंदिर आदि शामिल है। कुछ जगह की घट स्थापना का विसर्जन एक दिन पहले हो गया। सात नंबर, गिट्टी, खदान, नेपा लिमिटेड, एकता नगर, 10 नंबर वार्ड शिवाजी नगर की मूर्तियां विसर्जित हुई।

यहां भी हुआ विसर्जन

ताप्ती नदी के पुराने पुल पर स्थित कुंड में शनिवार को दुर्गा माता की मूर्तियों का विसर्जन किया गया। इस दौरान नेपा मिल के सीएमडी सौरभ देब, जीडीएम अजय गोयल, मिलिंद तिरंगे, महेश पांडे, नपा सीएमओ राजेश मिश्रा सहित अन्य मौजूद थे। नगर में दिनभर प्रतिमा विसर्जन का सिलसिला चला। नेपानगर में हर साल दशहरा के दूसरे दिन माता जी की मूर्तियों के विसर्जन की परंपरा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local