बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। देश और प्रदेश के कुछ हिस्सों में सेना की अग्निपथ योजना को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन के बीच सोमवार को इंटरनेट मीडिया पर भारत बंद का आह्वान किया गया था। जिसे देखते हुए रविवार रात से ही आरपीएफ, जीआरपी और जिला पुलिस बल के जवान रेलवे स्टेशन में तैनात कर दिए गए थे। सोमवार सुबह से स्टेशन परिसर के चप्पे-चप्पे में पुलिस का पहरा नजर आया। रेलवे स्टेशन में मौजूद लोगों ने आरपीएफ व जीआरपी के अफसर पूछताछ कर जानकारी लेते रहे। हालांकि देर शाम तक जिले में कहीं भी अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शन की खबर नहीं थी। आरपीएफ थाना प्रभारी सुनील पी शिंदे ने बताया कि स्टेशन से लेकर रेल पटरियों तक की सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए थे। शहर के युवाओं ने शांति बनाए रखकर अच्छे नागरिक होने का परिचय दिया है। जीआरपी चौकी प्रभारी शेख मकसूद और लालबाग थाने के पुलिसकर्मी भी लगातार गतिविधियों पर नजर रखे हुए थे। इधर महिला कांग्रेस की प्रदेश प्रवक्ता प्रीति सिंह राठौर ने केंद्र सरकार से अग्निपथ योजना को वापस लेने की मांग की है। उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा कि रेलवे की संपत्ति को नुकसान पहुंचाना गलत है, लेकिन सरकार के अपने निर्णय पर पुनर्विचार करना चाहिए।

बाक्स....

सेना भर्ती परीक्षा आयोजित कराई जाए

अग्निपथ योजना और वर्ष 2021 में आयोजित फिजिकल टेस्ट को लेकर सोमवार को सेना के अधिकारियों का बयान सामने आने के बाद जिले के करीब आधा दर्जन युवा कलेक्टर प्रवीण सिंह को आवेदन सौंपने पहुंचे थे। उन्होंने कलेक्टर को दिए आवेदन में सेना की लिखित परीक्षा जल्द आयोजित कराने की मांग की है। युवा धीरज सपकाले, सतेंद्र कोली, ननीश्वर महाजन, ललित वराड़े आदि ने बताया कि वे मार्च 2021 में देवास में आयोजित सेना भर्ती परीक्षा में शामिल हुए थे। उन्होंने फिजिकल और मेडिकल टेस्ट पास कर लिए थे। इसके बाद से अब तक लिखित परीक्षा आयोजित नहीं की गई। सेना के अधिकारियों ने अब इस भर्ती परीक्षा को रद करने की घोषणा कर दी है। उन्होंने मांग की है कि आधी परीक्षा पास कर चुके युवाओं के लिए लिखित परीक्षा आयोजित की जाए और उन्हें सेना में नौकरी दी जाए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close