Road Safety Campaign Burhanpur: बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सामाजिक सरोकार से जुड़े नईदुनिया के यातायात जागरूकता अभियान के तहत मंगलवार को शहर के ट्रायएम्फल आर्च एकेडमी में यातायात की पाठशाला आयोजित की गई। उपप्राचार्य सुनील पाटिल, भगवान महाजन ने विद्यार्थियों को बेहद तार्किक ढंग से यातायात नियमों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यातायात नियमों का पालन करते हुए वाहन चलाना जितना जरूरी है, वाहन की नियमित अंतराल पर जांच कराना भी उतना ही जरूरी है। हमें यह भी देखना चाहिए कि टायर में हवा बराबर है अथवा नहीं, ब्रेक काम कर रहे हैं या नहीं और वाहन के इंडीकेटर व टेल लाइट जल रही है अथवा नहीं। क्योंकि सड़क पर वाहन चलाते समय इन सभी का उपयोग हमारे द्वारा किया जाता है।

इनमें से किसी भी चीज में खराबी होने पर दुर्घटना की संभावना बन सकती है। सुनील पाटिल ने नईदुनिया के अभियान की प्रशंसा करते हुए कहा कि सामाजिक सरोकार से जुड इससे हम एक जिम्मेदार समाज का निर्माण करते हैं। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि अठारह साल की आयु सीमा पूर्ण करने से पहले जहां तक संभव हो हमें दोपहिया वाहन नहीं चलाना चाहिए। वयस्क होने पर सबसे पहले लाइसेंस बनवाएं और ठीक तरह से वाहन चलाना सीखें, इसके बाद ही सड़क पर वाहन लेकर आएं। उन्होंने कहा कि वाहन चलाते समय लाइसेंस, इंश्योरेंस, आरसी और पीयूसी साथ रखना चाहिए। जिससे हम चालानी कार्रवाई से भी बचते हैं और एक अच्छे नागरिक होने की सबूत देते हैं।

बेंगलुरु का प्रेरक किस्सा सुनाया

उपप्राचार्य सुनील पाटिल ने विद्यार्थियों को बेंगलुरु का एक रोचक और प्रेरक किस्सा भी सुनाया। उन्होंने बताया कि गत दिनों वे इस शहर में गए थे। वहां जब शहर की सड़कों पर निकले तो एक भी बाइक सवार ऐसा नहीं मिला जिसने हेलमेट नहीं पहना हो। यहां तक कि बाइक पर पीछे बैठने वाले सहयात्री और आगे बैठे छोटे बच्चों तक ने हेलमेट पहन रखा था। यह देखकर वे अवाक रह गए। उन्होंने कहा कि वहां कोई पुलिसकर्मी इसके लिए दबाव नहीं डालता, बल्कि शिक्षित और जागरूक होने के कारण बेंगलुरु का प्रत्येक व्यक्ति नियमों का पालन करता है। इस दौरान स्कूल के संचालक कमलेश पटेल, डा. मनुभाई पटेल व अन्य शिक्षक मौजूद थे।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close