बुरहानपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्वच्छता सर्वेक्षण में देश में चौदहवां स्थान और स्माल डेवलपिंग सिटी में नंबर वन का तमगा हासिल करने के बाद बुरहानपुर नगर निगम की नजर नंबर वन के स्थान पर है। ऐसे में शहर के न सिर्फ स्वच्छ बल्कि सुंदर बनाना और आम नागरिकों का व्यवस्थाओं से संतुष्ट होना भी जरूरी है। निगम प्रशासन सफाई को लेकर तो सजग नजर आ रहा है, लेकिन शहर की सुंदरता बढ़ाने वाले बंद पड़े फव्वारों और सेल्फी पाइंटों को चालू कराने में अब तक रुचि नहीं दिखाई है। इसके चलते 2021 में होने वाले स्वच्छ सर्वेक्षण में अंक घटने का खतरा मंडराने लगा है। हालांकि नगर निगम अफसरों का कहना है कि जल्द ही न सिर्फ बंद पड़े फव्वारों और सेल्फी पाइंटों को चालू कराया जाएगा, बल्कि शहर के अन्य स्थलों पर नए फव्वारे भी बनाए जाएंगे।

ज्ञात हो कि स्वच्छता सर्वेक्षण के पहले चरण के बाद नगर निगम ने शनवारा चौराहा और राजपुरा गेट पर लाखों रुपये खर्च कर रंगीन रोशनी से सजे सेल्फी पाइंट पाइंट बनाए थे, जो बीते करीब नौ माह से बंद पड़े हैं। इसी तरह शहर के लालबाग में स्टेशन के पास, शनवारा चौराहा, गणपति नाका के पास, गुजराती मार्केट, नगर निगम कार्यालय, नेहरू प्रतिमा के पास निगम प्रशासन द्वारा लाखों इपये की लागत से फव्वारों का निर्माण कराया गया था। बीते करीब तीन साल से ज्यादा समय से ये फव्वारे बंद पड़े हैं। लोगों के अनुसार रंगीन लाइट के साथ जब ये फव्वारे चलते थे तो मार्ग से गुजरने वालों को अपनी आकर्षित करते थे। अनुरक्षण और देखरेख के अभाव में इनके बंद होने के बाद न तो जनप्रतिनिधियों ने सुध ली और न ही नगर निगम के अफसरों ने इन्हें चालू कराने में दिलचस्पी दिखाई। वर्तमान में स्थिति यह है कि कुछ फव्वारों में लोग कचरा तक डालने लगे हैं। समाजसेवी अजय बालापुरकर ने बताया कि यहां पर फव्वारे की सुध ली जाना चाहिए।

नाम फव्वारा चौक, पर फव्वारा नहीं

शहर के मुख्य बाजार गांधी चौक से लगा एक चौराहा ऐसा भी है जिसे लोग फव्वारा चौक के नाम से जानते हैं, लेकिन हास्यास्पद पहलू है कि यहां फव्वारा ही नहीं है। स्थानीय व्यापारी और नागरिक बताते हैं कि कुछ साल पहले तक चौराहे के बीचोंबीच शानदार फव्वारा था। इसके चलते ही चौराहे का नाम फव्वारा चौक पड़ा था। इस चौराहे के आसपास देर शाम तक ग्रामीणों का जमावड़ा खरीददारी के लिए बना रहता है। फव्वारे के कारण यहां शाम के समय रौनक होती थी। कुछ साल पहले नगर निगम के अफसरों ने फव्वारे को तोड़कर नया फव्वारा बनाने का आश्वासन दिया था, लेकिन आज तक फव्वारा नहीं बनाया जा सका।

पूर्व उपनेता प्रतिपक्ष ने की मांग

नगर निगम के निवर्तमान उपनेपा प्रतिपक्ष अमर यादव, पूर्व पार्षद राजेश भगत व अन्य लोगों ने कलेक्टर एवं नगर निगम प्रशासक प्रवीण सिंह से मांग की है कि शहर को सुंदर बनाने के लिए बंद पड़े फव्वारों को चालू कराएं। इसके साथ ही शहर के अन्य स्थलों का चयन कर नए फव्वारे स्थापित किए जाएं। उन्होंने आरोप लगाया है कि निगम प्रशासन कई गैर जरूरी कामों पर तो लाखों रुपये खर्च कर रहा है, लेकिन जिन कामों से शहर को नई पहचान मिल सकती है, उनके लिए अफसर बजट का रोना रोते हैं।

* शहर के जितने भी फव्वारे और सेल्फी पाइंट बंद पड़े हैं, उन्हें जल्द चालू कराया जाएगा। शहर को सुंदर बनाने के लिए अन्य जगहों पर नए फव्वारे भी स्थापित कराए जाएंगे।-बीडी भूमरकर, आयुक्त नगर निगम

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस