अयोध्या में बन रहे संग्रहालय को मध्य प्रदेश के बुरहानपुर से भेंट की जाएंगी राम टका सहित अन्य ऐतिहासिक महत्व की वस्तुएं

Vijayadashami 2021 Special: युवराज गुुप्ता, बुरहानपुर (नईदुनिया)। अयोध्या में निर्माणाधीन भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के साथ बनने वाले संग्रहालय में मध्य प्रदेश के बुरहानपुर निवासी मुस्लिम इतिहासकार मोहम्मद नौशाद भी अपना योगदान देंगे। इनके पास पाकिस्तान के लाहौर में वर्ष 1903 में सिंधी भाषा में लिखा रामायण ग्रंथ है, जिसे ये ससम्मान श्रीराम मंदिर के लिए भेंट देंगे।

यह सौभाग्य पा रहे मोहम्मद नौशाद बताते हैं- 'वर्ष 1903 में लिखी गई सिंधी भाषा की रामायण लाहौर प्रेस से प्रकाशित हुई थी। चार पीढ़ी से हमारा परिवार इस प्राचीन ग्रंथ को पूरे सम्मान के साथ सहेजे हुए है। यह ग्रंथ मेरे दादा शेख अब्दुल्ला को सिंधी अकादमी द्वारा 1922 में दिल्ली में एक कार्यक्रम में भेंट किया गया था। हमारे दादा ने इसे माथे से लगाकर स्वीकार किया और जीवनभर सहेजा, फिर हमारे पिता शेख अहमद ने इसकी देखरेख और साज-संभाल की। उनके बाद यह मंगल कार्य हमारे सौभाग्य में आया। समय-समय पर हम इसकी सुरक्षा के उपाय करते हैं, ताकि इसके पन्‍नों में कोई कीड़ा आदि न लगे और ये पूरी तरह सुरक्षित रहे।

नौशाद का परिवार सुनता रहा है रामकथा

मोहम्मद नौशाद कहते हैं- 'सिंधी भाषा की रामायण के पन्नों पर श्रीराम के जीवन के विविध प्रसंगों के चित्र हैं, जिनमें भगवान श्रीराम, भ्राता लक्ष्मण, माता सीता और हनुमानजी के आकर्षक चित्र भी हैं। कुछ वर्ष पहले तक इस ग्रंथ को पढ़ने के लिए बुरहानपुर निवासी कपड़ा व्यापारी जवाहरचंद और सिंधी समाज के वरिष्ठ सदस्य मोतीराम सुखवानी (दोनों अब स्वर्गीय) हमारे घर आते और हमें भी इसे पढ़कर सुनाते तथा इसका महत्व बताते थे। उनके देहावसान के बाद यह सिलसिला रुक गया।

यह हमारा सौभाग्य है

नौशाद के परिवार को जब पता चला कि अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर के निर्माण के साथ संग्रहालय भी बनाया जा रहा है, जिसमें प्रभु श्रीराम से जुड़ी विविध चीजें सहेजी जाएंगी, तो परिवार ने निर्णय लिया कि सिंधी रामायण संग्रहालय को भेंट दी जाए। नौशाद बताते हैं- 'निरंजनी अखाड़ा के संत नर्मदानंद गिरि महाराज के माध्यम से यह रामायण अयोध्या भेजी जाएगी। भेंट करने संबंधी घोेषणा पत्र लिखकर पहले ही संग्रहालय भेज दिया गया है। यह हमारा सौभाग्य है कि भव्य श्रीराम मंदिर के संग्रहालय में हमारे परिवार की छोटी-सी भेंट स्वीकार की जा रही है।

मेजर भेंट करेंगे राम टका

बुरहानपुर में ही रहने वाले डा. मेजर एमके गुप्ता के पास ऐतिहासिक महत्व के पांच हजार सिक्के संग्रहित हैं। इनमें ऐसे सिक्के भी हैं, जिन पर प्रभु श्रीराम, माता सीता व भ्राता लक्ष्मण तथा दूसरी ओर राज्य मुहर व सिक्के का मूल्य अंकित हैं। राम दरबार उकेरे गए ये सिक्के कभी मुद्रा के रूप में प्रचलित थे। डा गुप्ता अब राम टका को अयोध्या में निर्माणाधीन श्रीराम मंदिर के संग्रहालय को भेंट देंगे। वे पहले ही इस संबंध में घोषणा कर चुके हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local