छतरपुर। बजरंग सेना के पल्लेदार यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राजा श्याम सिंह चंदेल के नेतृत्व में हमा की काली मंदिर से रैली निकाली। जिसमें बजरंग सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष रणवीर पटेरिया के साथ अरुण पाठक, तनुज गंगेले, हरिश्चंद्र प्रजापति, सचिन शुक्ला, अनिल अहिरवार, सत्यम तिवारी, आशीष सेन, सत्यम शर्मा ने स्वच्छता का संदेश देते हुए कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। जिसमें मंडी से संबंधित समस्याएं जैसे मंडी में पल्लेदारों के लिए सुलभ शौचालय की व्यवस्था, मंडी में घूम रहे आवारा पशुओं सूअर और गाय को प्रतिबंधित किए जाने, स्वच्छ पीने के पानी की व्यवस्था, शहर की सड़कें खराब और गड्ढों के होने के कारण वायु प्रदूषण बढ़ने जैसी समस्याओं के लिए बजरंग सेना प्रतिबद्ध है। रैली डाकखाना चौराहा होते हुए सटई रोड, गल्ला मंडी पहुंची जहां समापन किया गया। जहां पर बजरंग सेना का दशहरा मिलन कार्यक्रम भी संपन्न हुआ। जिसमें पल्लेदार यूनियन के मत्थर कुशवाहा, बाबूलाल अनुरागी, अरविंद सिंह परिहार, गोकुल कुशवाहा, मलखान यादव, सोहन कुशवाहा ने सभी का आभार जताया।

नोट - फोटो 08 का केप्सन है -

छतरपुर। शहर में रैली निकालते बजरंग सेना के पदाधिकारी।

युवा मिलन एवं गहोई प्रतिभा सम्मान समारोह 28 को

छतरपुर। नगर गहोई वैश्य समाज द्वारा आगामी 28 अक्टूबर को गहोई युवा मिलन एवं गहोई प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन गहोई धाम में आयोजित किया जा रहा है। ऐसा करने का मुख्य उद्देश्य नगर के बहुत से गहोई परिवारों के युवा घर से दूर शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं या सर्विस में है, जिसके कारण उनका स्वजातीय बंधुओं से जुड़ाव कम होने लगा था। इसके कारण समाज के युवा छतरपुर शहर के होते हुए बाहर एक शहर में रहते हुये भी एक दूसरे को नहीं जानते हैं।

अध्यक्ष प्रेम नारायण रूसिया ने बताया कि इस वर्ष युवा मिलन के साथ-साथ समाज के प्रतिभावान छात्र-छात्राओं जिन्होंने इस वर्ष कक्षा 10वीं एवं 12वीं स्नातक व स्नातकोत्तर में 85 प्रतिशत से अधिक अंक उत्तीर्ण किए हैं या किसी विशेष क्षेत्र में संभागीय, प्रदेश या राष्ट्रीय स्तर पर कोई उपलब्धि प्राप्त की है उन्हें सम्मानित किया जाएगा। ऐसे सभी गहोई छात्र-छात्राएं जिन्होंने 85 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किए हो वे अपनी अंक सूची 25 अक्टूबर तक राष्ट्रकवि मैथिलीशरण विद्यालय और बृजमोहन रावत के पास भेजें। नगर गहोई समाज छतरपुर महिला मण्डल छतरपुर एवं नवयुवक मण्डल ने सभी गहोई बंधुओं से 28 अक्टूबर को सपरिवार उपस्थित रहने की अपील की है।

शॉर्ट सर्किट से किराने की दुकान में लगी आग

बमीठा। रीवा-ग्वालियर नेशनल हाइवे पर स्थित ग्राम पंचायत घूरा में एक किराना दुकान में अचानक आग लग जाने से किराना सामग्री जलकर राख हो गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार बमीठा थाना क्षेत्र के ग्राम घूरा में रामलाल रजक एक लोहे के डिब्बे में किराना की दुकान चलाता है। गुजरी रात को वह दुकान बंद कर घर गया और इधर सुबह करीब 4 बजे शार्ट सर्किट की वजह से उसकी दुकान में आग भड़क गई। जिससे किराने का सामान जल कर खाक हो गया। डिब्बे में किराने के सामान सहित कुछ नगदी भी रखी हुई थी।

नोट - फोटो 09 का केप्सन है -

बमीठा। दुकान में जली पड़ी सामग्री।

बिगड़े रिश्तों को सुधारने लिया शांत समय

छतरपुर। जिला पंचायत ई-दक्षता केंद्र में सोमवार को राज्य आनंद संस्थान की ओर से मास्टर ट्रेनर लखन लाल असाटी ने अल्पविराम संपन्न कराया, जिसमें 30 शिक्षकों ने भागीदारी की सबसे पहले उन्हें राज्य आनंद संस्थान की विभिन्न गतिविधियों के बारे में अवगत कराया गया। एक वीडियो क्लिप देखने के बाद सभी ने शांत समय लिया, जिसमें उन्हें विचार करना था कि उनके कौन-कौन से रिश्ते बिगड़े हैं, जो उन्हें दुख देते हैं। शांत समय के बाद कुछेक शिक्षकों ने अपने बिगड़े रिश्तों को बताया भी। एक शिक्षक ने कहा कि उनके अपने चचेरी बहन से रिश्ते सुधारने की जरूरत है और जिसके लिए वह प्रयास भी कर रहे हैं। सभी से कहा गया कि बिगड़े रिश्ते हमारे अंदर का बोझ है। इस बोझ को हटाने से हम और बेहतर जिंदगी जी सकते हैं इसलिए क्षमायाचना करके अथवा दूसरों को क्षमा करके हम रिश्ते सुधार सकते हैं।

नोट - फोटो 10 का केप्सन है -

छतरपुर। अल्पविराम में मौजूद शिक्षक।

बदहाल हुई यातायात व्यवस्था, जिम्मेदार बेपरवाह

- सालों से नेशनल हाइवे पर लग रही साप्ताहिक हाट

- बीच रोड पर बसें खड़ी करने से जाम सरीखे बन जाते हालात

बड़ामलहरा। आम लोगों को मूलभूत सुविधाएं और सुरक्षा प्रदान करने की जिम्मेदारी नगर निकाय, पुलिस और प्रशासन की होती है, लेकिन बड़ामलहरा में दुर्भाग्य है कि वर्षों बीतने के बावजूद भी हालातों में सुधार संभव नहीं हो पाए हैं। नागरिकों को मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं तो अन्य समस्याएं भी स्थानीय लोगों के लिए दुखदायी साबित हो रही है। पिछले कई वर्षों से कस्बा बड़ामलहरा की यातायात व्यवस्था बदहाल है। नेशनल हाइवे पर लगने वाली साप्ताहिक हाट का स्थान नहीं बदला जा सका तो स्टैंड पर मुख्य मार्ग पर होने के कारण आड़ी-तिरछी खड़ी बसें भी यातायात बुरी तरह प्रभावित कर रही हैं जिससे कोई बड़ी दुर्घटना की आशंका बन रही है।

नगर परिषद क्षेत्र बड़ामलहरा में 15 वार्ड आते हैं। इन वार्डों में तमाम समस्याएं होने के कारण स्थानीय नागरिक परेशान हैं तो वार्डों में विकास के कार्य भी नाकाफी रहे हैं। पिछले 15 वर्षों तक भाजपा की सरकार रही है, लेकिन यहां नगर परिषद के चुनाव में कांग्रेस जीतती रही। अब जबकि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है और नगर परिषद में भी कांग्रेस का कब्जा है। इसके बावजूद भी समस्याओं का समाधान नहीं हो पा रहा है। स्थानीय जिम्मेदारों की उदासीनता के कारण नगर की यातायात व्यवस्था बुरी तरह लड़खड़ाई है। नेशनल हाइवे पर स्थित बड़ामलहरा के मुख्य मार्ग पर कई बार जाम सरीखे हालात निर्मित हो जाते हैं मगर इस और प्रशासनिक अमला अनभिज्ञ बना हुआ है। नेशनल हाइवे के व्यस्ततम इलाके से भारी एवं हल्के हजारों वाहनों का आवागमन होता है। बता दें कि नगर का छोटा सा बस स्टैंड भी हाइवे के किनारे होने के कारण यहां स्थिति विकराल बनी हुई है। यहां नंबर पर चलने वाली बसें और दिल्ली से आने वाली बसों के मुसाफिरों के सामान की अल्टा-पल्टी करने के चक्कर में बीच रोड में ही बसों को खड़ा कर दिया जाता है जिससे न केवल यातायात व्यवस्था बुरी तरह लड़खड़ा गई है बल्कि आए दिन किसी बड़े हादसे की आशंका बन रही है। इस संबंध में आए दिन पुलिस थाना परिसर में होने वाली शांति समिति की बैठक में जागरूक लोगों द्वारा अनेकों बार चर्चा की गई और बिगडी़ यातायात व्यवस्था का कई बार मुद्दा भी उठाया गया मगर जिम्मेदार लोगों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। प्रशासनिक अनदेखी के चलते हालात ये बन गए हैं कि बस चालक अपनी मनमानी पर उतर आए हैं जिससे दुर्घटनाएं होना आम बात हो गई है।

बस स्टैंड पर बंद है पुलिस की ड्यूटी

बड़ामलहरा के बस अड्डे से पिछले काफी अरसे से पुलिस की ड्यूटी बंद कर दी गई है जिससे यातायात की स्थिति बिगड़ गई है। बस चालक हों, दोपहिया या चार पहिया वाहन चालक अपनी मनमर्जी से वाहन खड़े कर देते हैं। उन्हें कोई दुकानदार या राहगीर हटाने की बात करता है तो झगड़ा करने पर आमादा हो जाते हैं। गौरतलब है कि विगत कई वर्षों पूर्व प्रतिदिन बदल-बदल कर एक आरक्षक की बस अड्डे पर ड्यूटी लगाई जाती रही जो वाहनों की व्यवस्था करने के साथ-साथ बस अड्डे के झगड़ों को बचाए रखता था मगर अब हालात पहले जैसे नहीं रहे।

न हटाई हाइवे से हाट, न बदला स्टैंड

नगर के जिम्मेदार अधिकारी व निर्वाचित जनप्रतिनिधि बड़ामलहरा की समस्याओं को मूकदर्शक बनकर देख रहे हैं। दुर्भाग्य देखें कि मुख्य मार्ग पर लगने वाली दुकानों और बेतरतीब यातायात के कारण कई छोटे हादसों के साथ ही बड़े हादसे हो चुके हैं जिनमें कई निर्दोष लोगों की जान जा चुकी हैं। इसके बावजूद भी न तो बस स्टैंड को किसी अच्छे स्थान पर स्थानांतरित किया जा सका और न ही यहां के जिम्मेदार साप्ताहिक हाट नेशनल हाइवे से बदलकर लगाने के लिए स्थान चयनित कर सके हैं।

इनका कहना है -

यातायात बल मेरे पास नहीं है, स्टापर रखे हैं जब जरूरत होती है तो लगा देते हैं। यातायात व्यवस्था जरा भी बदहाल नहीं है। वैसे भी मैन रोड़ है।

राजाराम साहू

एसडीओपी, बडामलहरा

एक तो बस स्टैण्ड में जगह नहीं है दूसरे नगर पंचायत ने इंदिरा जी की स्टेच्यू घेरने के चक्कर में लोहे का ?ाल लगा दिया है इसलिए जगह कम पड़ जाती है। व्यवस्था सुधरी रहे इसके लिए 100 डायल वाहन भी स्टैण्ड में ही खडा़ रखते हैं। कुछ बस वाले गड़बड़ करते है। हम व्यवस्था और टाइट करते हैं।

शिवकांत दुबे

टीआई, बड़ामलहरा

नोट - फोटो 11, 12 एवं 13 का केप्सन है -

बड़ामलहरा। हाइवे पर बसों से चल रही सामान की पलटी।

बड़ामलहरा। बस स्टैंड से बाहर मुख्य मार्ग पर खड़ी यात्री बसें।

बड़ामलहरा। नगर की बदहाल पड़ी गलियां।

पौने दो करोड़ की लागत से बनेंगे पुलिस थाना एवं चौकी भवन

बड़ामलहरा। पुलिस अनुभाग बड़ामलहरा अंतर्गत थाना बड़ामलहरा का नवीन भवन तथा तीन भवन विहीन पुलिस चौकियों के भवन का निर्माण ठेकेदार द्वारा शीघ्र प्रारम्भ किया जाएगा। पुलिस अनुभाग के एसडीओपी आरआर साहू ने बताया कि गुजरे बुधवार को पुलिस अधीक्षक छतरपुर तिलक सिंह ने ग्राम कर्री पुलिस चौकी भवन के निर्माण के लिए तहसीलदार केके गुप्ता, आरआई हनुमान सिंह गोंड़, हल्का पटवारी, सरपंच, सचिव, थाना प्रभारी एसके दुबे के साथ चौकी भवन निर्माण किए जाने के लिए राजस्व विभाग द्वारा आवंटित किए जाने वाले स्थल का मुआयना कर बताया कि मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में सर्वाधिक चौदह पुलिस चौकी के नवीन भवन निर्माण की स्वीकृति प्रदेश सरकार के ग्रह विभाग द्वारा दी गई है जिसके तहत बड़ामलहरा अनुभाग के बड़ामलहरा में 95 लाख की लागत से अत्याधुनिक नवीन थाना भवन थाना परिसर में तथा महाराजगंज, कर्री, दरगुवां में पच्चीस-पच्चीस लाख की लागत से चौकी भवन का निर्माण राजस्व विभाग द्वारा आवंटित भूमि पर किया जाएगा। जिनका आगामी दिनों में शीघ्र ही शिलान्यास व भूमिपूजन जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों से कराते हुए निर्माण कार्य ठेकेदार द्वारा प्रारंभ कर दिया जाएगा।

सोशल मीडिया छतरपुर

बारिस की विदाई के बाद जिले की दो प्रमुख नदियों पर रेत के अवैध उत्खनन का मुद्दा सोशल मीडिया पर तेजी से चल पड़ा है। अंचल के नेताओं की मिलीभगत सोशल मीडिया पर चर्चा में है तो वहीं सोमवार को पुलिस स्मृति दिवस कार्यक्रम भी सोशल मीडिया पर वॉयरल किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network