- मनरेगा आयुक्त के नाम जिपं सीईओ को दिया ज्ञापन

छतरपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

ग्राम रोजगार सहायक संघ ने बुधवार को सीईओ जिला पंचायत हिमांशु चंद्र को मनरेगा आयुक्त के नाम ज्ञापन दिया है। जिसमें ग्राम रोजगार सहायकों को मूल पंचायत में भेजने वाले आदेश को निरस्त कराने की मांग की है।

मनरेगा आयुक्त के नाम ज्ञापन देने वालों में जिलाध्यक्ष राजकुमार पाठक, चेतन अग्रवाल, गोपाल शर्मा, सुनील यादव, हीरासिंह, बृजेंद्र रिछारिया, पुष्पेंद्र पाठक, आशीष अरजरिया, मनीष विश्वकर्मा, हरप्रसाद प्रजापति सहित भारी संख्या में रोजगार सहायक मौजूद रहे। ज्ञापन का हवाला देते हुए बताया गया है कि छतरपुर जिले के करीब एक सैकड़ा से अधिक ग्राम रोजगार सहायकों को अपनी मूल पंचायत जाने में समस्या है। मनरेगा आयुक्त के आदेश के बावजूद ग्राम रोजगार सहायक तनाव में हैं। उन्हें अंदेशा है कि पूर्व से रंजिश रखने वाले जनप्रतिनिधि उनकी सेवाएं भी समाप्त करा सकते हैं। ज्ञापन में इस बात का हवाला दिया गया है कि तत्कालीन एसीएस राधेश्याम जुलानिया ने ग्राम रोजगार सहायक के विवादित होने पर व्यवस्था परिवर्तन करते हुए ग्राम रोजगार सहायकों के तबादले का आदेश जारी किया था, लेकिन मनरेगा आयुक्त सुश्री शिल्पा गुप्ता द्वारा मूल पंचायत में भेजने संबंधी आदेश के बाद रोजगार सहायकों के हित प्रभावित हुए हैं। रोजगार सहायकों का कहना है कि उन्हें इस आदेश के तहत एक ही पंचायत में रहकर सेवाएं देने पड़ेंगी, जिससे विवाद की स्थिति बनेगी और उन्हें नौकरी से भी हाथ धोना पड़ सकता है। पूर्व की व्यवस्थाओं को यथावत रखते हुए रोजगार सहायकों ने अपने हित में नए आदेश को तत्काल प्रभाव से निरस्त करने की मांग की है। मांग पूरी न होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी गई है। जिला पंचायत सीईओ हिमांशु चंद्र ने रोजगार सहायकों को आश्वस्त किया है कि ज्ञापन पर कार्रवाई करते हुए आयुक्त मनरेगा का ध्यान इस ओर आकृष्ट कराने का प्रयास किया जाएगा।

नोट- फोटो 30 लगाएं के प्सन है

छतरपुर। ज्ञापन देने पहुंचे रोजगार सहायक।-30

व्यापारियों ने की ऑनलाइन शापिंग पर प्रतिबंध लगाने की मांग

छतरपुर। खजुराहो में व्यापारी शक्ति एकता संघ के व्यापारियों ने एक होटल में बैठक करके सरकार से ऑनलाइन शापिंग पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने की मांग की है।

व्यापारियों का कहना है कि सरकार द्वारा ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों को टैक्स से ज्यादा छूट दी जा रही है, जिससे से ये कंपनियां देश के करोड़ों व्यापारियों और उनसे जुड़े हुए करोड़ों लोगों के रोजगार को छीन रही हैं। सरकार को इन ऑनलाइन कंपनियों पर ज्यादा टैक्स लगाने चाहिए जबकि देश के आम व्यापारियों पर कम टैक्स लगाने चाहिए। तभी आम व्यापारी आम लोगों को ज्यादा सस्ता सामान उपलब्ध करा सकेंगे। व्यापारियों ने इस मुद्दे पर सभी राजनीतिक दलों की चुप्पी की तीखी आलोचना करते हुए कहा है कि देश के 7 करोड़ व्यापारियों और उनसे जुड़े लगभग 40 करोड़ लोगों की रोजी रोटी पर अब खतरे में है। उन्होंने ई- कॉमर्स व्यापार में अमेजन एवं फ्लिपकार्ट के अनैतिक व्यापार को एक आर्थिक महामारी बताते हुए कहा की यदि इन कंपनियों की मनमानी को रोका नहीं गया तो भविष्य में और विदेशी कंपनियां भारत में व्यापार करने आएंगी। जो भारत के रिटेल बाजार पर एकाधिकार कर लेंगीं। व्यापारियों ने इस मामले में सरकार द्वारा त्वरित निर्णय न लेने पर आंदोलन शुरू करने की चेतावनी भी दी है।

नोट- फोटो 31 लगाएं के प्सन है-

खजुराहो। बैठक के बाद आवाज बुलंद करते व्यापारी।-31

लापता किशोरी का पता लगाने पर इनाम घोषित

छतरपुर। जिले के थाना बाजना के ग्राम पाटन निवासी रामदयाल आदिवासी की नाबालिग पुत्री जानकी उर्फ जानका आदिवासी उम्र 16 वर्ष अपने घर से 12 नवंबर 2018 की रात को गायब हो गई थी, जिसका आज तक पता नहीं लग पाया है। बाजना थाना प्रभारी केएस परस्ते ने बताया कि इस मामले में धारा 363, 366 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया गया था। अभी तक किशोरी का पता नहीं चल सका है। पुलिस अधीक्षक द्वारा लापता नाबालिग जानकी आदिवासी की जानकारी देने वाले को 5000 रुपए का इनाम देने की घोषणा की है।

छतरपुर सोशल मीडिया

बुधवार को सोशल मीडिया पर भाजपा के जिला अध्यक्ष के मनोनयन के बारे में चर्चाए सरगर्म रहीं। इस बारे में सेंड मैसेज में लोग कई नामों के कयास लगाते रहे। वहीं इस बारे में भी मैसेज सेंड किए गए कि कहीं पैनल से हटकर पैराशूट जिला अध्यक्ष न आ जाए। शहर में तेजी से बढ़ते क्राइम पर भी लोगों ने पुलिस की भूमिका पर तीखे कटाक्ष किए हैं। लोगों का कहना है कि सब फीलगुड कर रहे हैं। अपराधी अपना काम कर रहे हैं और रक्षक रेत के खेल में व्यस्त हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network