बकस्वाहा। प्रशासन ने इस बार लोगों को गर्मियों में जलसंकट से राहत देने के लिए वर्षों से जमीन के नीचे चोक पड़ी पाइप लाइनों को बदलवाकर नई पाइप लाइन बिछाई हैं। जिससे लोगों के घरों तक पानी आसानी से पहुंचने लगा है।

हर बार गर्मियों में गंभीर जलसंकट से जूझने वाले नगर के लोगों को इस बार प्रशासन ने घर-घर पानी पहुंचाकर राहत दी है। दरअसल नगर के वार्ड क्रमांक 5 के बाशिंदों सहित नगर के अन्य वार्डों के लोग गर्मियों में बूंद-बूंद पानी के लिए परेशान रहे हैं। जलसंकट से छुटकारा दिलाने के लिए लोग प्रशासन से बराबर मांग करते रहे हैं। इस बार प्रशासन ने इस ओर ध्यान दिया और नगर परिषद द्वारा एक बड़ी कार्ययोजना तैयार करके पहले कई जगह नए बोर कराके पानी के स्त्रोत तलाशे गए और अब नई पाइप लाइन बिछाई गई है।

चोक पड़ी पाइन लाइनों से लोगों को पानी नहीं मिलता था। जलसंकट से परेशान लोगों ने नगर परिषद के सीएमओ से समस्या बताई थी। जब से नई पाइप लाइन बिछाकर सप्लाई शुरू कराई गई है, तब से वर्षों पुरानी इस समस्या का अब स्थाई निदान हो गया है। इसे लेकर लोगों ने खुशी व्यक्त की है। सीएमओ लखनलाल पाठक ने बताया कि लोगों की शिकायतों के आधार पर मौका मुआयना करके जल प्रभारी व सब इंजीनियर शोभित मिश्रा को निर्देशित किया। योजना बनाकर खासतौर से वार्ड 5 में पूरी नई पाइप लाइन डलवाई गई है, जिससे लोगों को अब घरों में नलों के माध्यम से पर्याप्त पानी मिलने लगा है।

नोट- फोटो 21 का कै प्सन है

बकस्वाहा। नवीन पाइप लाइनों से होती जलापूर्ति।-21

केंद्र पर गेहूं तौलने वसूली जा रही रकम और अनाज

बमीठा। मेलवार गेहूं खरीद केंद्र पर किसानों का गेहूं तौलने के एवज में मोटी रकम और अनाज की वसूली की गई है। वो भी तब जब किसानों से तुलाई के नाम पर निर्धारित राशि लेने के अलावा अन्य वसूली पर कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

खरीद केंद्र पर गेहूं बेचने गए किसान पप्पू महाराज अकौना व मोहन प्रजापति अकौना ने बताया कि वे अपने ट्रैक्टरों में गेहूं भरकर बेचने गए थे। खरीद केंद्र प्रभारी अरुण गुप्ता ने गेहूं तुलाई के एवज में उनसे एक क्विंटल गेहूं एवं मोटी राशि किसानों से वसूली है। इस पर आपत्ति जताकर जब उनसे सवाल किया गया तो उनका साफ कहना था यहां उनका ही आदेश चलता है। जब गेहूं की तुलाई कराई है तो केंद्र पर निर्धारित नियम का पालन भी करना होगा। किसानों ने इस नाइंसाफी की शिकायत एसडीएम राजनगर व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से की है। इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इसे लेकर किसानों में खासा असंतोष है। किसानों का कहना है कि मैलवार गेहूं खरीद केंद्र जिले के अंतिम छोर पर दूरदराज स्थित है। इसी कारण यहां केंद्र प्रभारी की मनमानी के बारे में शिकायतों के बावजूद अधिकारी कोई ध्यान नहीं देते हैं। एसडीएम स्वनलि वानखेड़े का कहना है कि इस बारे में कोई लिखित शिकायत मिलती है तो जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

मास्क नहीं लगाने वालों को फटकारा, किए चालान

राजनगर। नगर में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए नगर प्रशासन मास्क लगाने व दो गज की दूरी बनाए रखने को लेकर सख्ती कर रहा है। मास्क न लगाने वालों की फटकार लगाकर उनके चालान किए गए हैं।

नगर परिषद राजनगर के सीएमओ के वीएस बघेल एवं राजनगर थाना प्रभारी अभिलाष भलावी ने पुलिस टीम गठित करके राजनगर के बाजारों का भ्रमण करने और कोरोना के संक्रमण से बचाव में लापरवाही करने वालों की क्लास लेने का अभियान चला रखा है। यह टीम जहां से निकलती है वहीं लोग अपने मुंह पर मास्क चढ़ाने में जुट जाते हैं। इस टीम ने राजनगर में बाजार भ्रमण करके बस स्टैंड, राजा मार्केट, बजरिया, मेन बाजार, सोनी मोहल्ला में बिना मास्क लगाए कुछ दुकानदारों व खरीदारी कर रहे लोगों के चालान करके उनसे जुर्माना वसूला है। इस दौरान कई लोगों ने विरोध किया तो उन पर सख्ती भी की गई है। लोगों को समझाइश दी जा रही है कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क लगाएं और समय-समय पर हाथों को सैनिटाइज जरूर करें।

नोट- फोटो 22 का कै प्सन है-

बकस्वाहा। लोगों को समझाइश देती टीम।-22

लॉकडाउन में पिस रहे कर्मकांडी ब्राह्मण व पुजारी

छतरपुर। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगातार जारी लॉकडाउन में कर्मकांडी ब्राह्मण व मंदिरों के पुजारी पिस रहे हैं। उनके आगे गंभीर आर्थिक संकट पैदा हो गया है।

लॉकडाउन लागू होने से मंदिरों में श्रद्धालुओं का आना-जाना बंद है। ऐसे में केवल पुजारी दोनों समय मंदिर में पूजा-अर्चना करके भगवान की सेवा में लगे हैं। इसके साथ ही सभी प्रकार के धार्मिक आयोजन, यज्ञ-अनुष्ठान, कथा, भागवत, जप-तप, मांगलिक कार्य बंद हैं। पूजा-पाठ में मिली दक्षिणा से आजीविका चलाने वाले मंदिरों के पुजारियों व कर्मकांडी ब्राह्मणों की आर्थिक स्थिति बिगड़ती जा रही है। अब तो भगवान भरोसे ही उनकी गुजर-बसर हो रही है। सभी बटुक ब्राह्मणों के इस दर्द से शासन प्रशासन अंजान बना है। पुजारियों व कर्मकांडी ब्राह्मणों का कहना है कि उनके लिए केंद्र व राज्य सरकार की कोई योजना नहीं है। न श्रम कार्ड या बीपीएल कार्ड हैं। कुछ पुरोहित जमा पूंजी से काम चला रहे हैं तो कुछ को कर्ज लेकर परिवार की गुजर बसर करना पड़ रही है। इनका कहना है कि यदि शासन-प्रशासन इस ओर ध्यान दे तो उनका जीवन यापन सरल हो सकेगा।

मेडिकल कॉलेज का काम शीघ्र शुरू कराने सीएम को दिया मांगपत्र

छतरपुर। पूर्व राज्य मंत्री ललिता यादव ने छतरपुर में स्वीकृत मेडिकल कॉलेज का काम शीघ्र शुरू कराने सहित जिले की विभिन्न मांगों को लेकर भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक मांगपत्र दिया है।

मांग पत्र का हवाला देते हुए पूर्व राज्यमंत्री ने बताया कि छतरपुर में साल 2018 में मेडिकल कॉलेज स्वीकृत करके उसका शिलान्यास सीएम शिवराज सिंह ने ही किया था। इसके निर्माण के लिए छतरपुर-नौगांव मार्ग पर गौरगांय के पास करने के लिए जमीन चि-ति कर ली गई है। मेडिकल कॉलेज निर्माण के लिए टेंडर को कांग्रेस सरकार ने स्वीकृत नहीं किया और भाजपा सरकार द्वारा कॉलेज के लिए स्वीकृत 320 करोड़ की राशि अन्यत्र खर्च कर दी। जिससे मेडिकल कॉलेज निर्माण का काम शुरू नहीं हो सका।

श्रीमती यादव ने कहा है कि कोरोना वायरस के कारण स्वास्थ्य सुविधाओं में मेडिकल कॉलेज बेहतर साबित हो रहे हैं। इसीलिए मेडिकल कॉलेज के कार्य के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू कराके शीघ्र ही काम शुरू कराया जाए। इसके अलावा ज्ञापन में खजुराहो-झांसी फोरलेन निर्माण में गठेवरा व चंद्रपुरा के किसानों की अधिग्रहित जमीनों का मुआवजा दिलाने, गेहूं खरीदी की तिथि 26 मई से बढ़ाकर 15 जून करने, छतरपुर जिले में केन नदी से रेत खनन के लिए नीति निर्धारण कर वैधानिक प्रक्रिया के तहत रेत खनन कराने जैसी मांगें भी मांगपत्र में शामिल की हैं।

छत्रसाल जयंती पर ऑनलाइन नेशनल सेमिनार कल

छतरपुर। महाराजा छत्रसाल जयंती के अवसर पर महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के मार्गदर्शन एवं महाराजा छत्रसाल स्मृति शोध संस्थान के सहयोग से 25 मई को दोपहर 3 बजे से 4 बजे तक ऑनलाइन नेशनल सेमिनार का आयोजन किया जाएगा। नेशनल सेमिनार के संयोजक डॉ. बहादुर सिंह परमार ने बताया कि सेमिनार की अध्यक्षता प्रो. सुरेंद्र दुबे कुलपति सिद्धार्थ विश्वविद्यालय कपिलवस्तु करेंगे। मुख्य वक्ता प्रो. हरिराम मिश्र जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय नई दिल्ली, सुनील केशव देवधर पुणे, प्रो. पुनीत बिसारिया विभागाध्यक्ष हिंदी बुंदेलखंड विश्वविद्यालय झांसी, डॉ. लखनलाल खरे शिवपुरी, डॉ. पुष्पेंद्र कुमार खरे महाराजा महाविद्यालय छतरपुर होंगे। सेमिनार में महाराजा छत्रसाल के व्यक्तित्व व कृतित्व के विविध आयामों पर विचार विमर्श किया जाएगा। सेमिनार के तकनीकी सहयोगी डॉ. एचसी नायक रहेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना