छतरपुर-हरपालपुर(नप्र)। जिला मुख्यालय से 55 किमी दूर स्थित हरपालपुर कस्बे में रेलवे गेट से होकर ट्रेन का गुजरना लोगों के लिए बड़ी मुसीबत बन गया है। रेलवे गेट बंद होते ही दोनों ओर वाहन जाम में फंस जाते हैं और लंबी लंबी कतारें लग जाती हैं। गेट बंद होने से लेकर गेट खोलने तक वाहन घंटों तक जाम में फंसे रहते हैं।

झांसी-मिर्जापुर नेशनल हाइवे पर स्थित हरपालपुर कस्बा चार तरफ से उत्तर प्रदेश की सीमाओं से सटा है। एक तरफ से जहां महोबा जिले की सीमा शुरू होती है वहीं रेलवे लाइन की क्रासिंग है। जिसके बीच से होकर हरपालपुर से राठ की ओर जाने वाली सड़क निकलती है। झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रेक पर आनेजाने वाली ट्रेनों के दौरान इसी सड़क पर यातायात को रोकने के लिए जैसे ही रेलवे गेट बंद होता है वैसे ही लोगों की परेशानी शुरू हो जाती है। दिन हो या रात यहां से बड़ी संख्या में हल्के और भारी वाहनों का गुजरना जारी रहता है। ऐसे में जैसे ही गेट लगता है वैसे ही राठ से हरपालपुर की ओर और हरपालपुर से राठ की ओर आनेजाने वाले वाहनों की लंबी कतार लग जाती है। ट्रेन जब प्लेटफार्म पर आती है और कुछ देर रूककर गुजरती नहीं है तब तक गेट बंद रहता है। ऐसे में करीब आधा से एक घंटे तक दोनों ओर वाहन थमे रहते हैं। लोगों के लिए यही सबसे बड़ी समस्या है। किसी बीमार को या किसी प्रसूता को लेकर जा रहे वाहन जब जाम में फंसते हैं तो कई बार अनहोनी का खतरा बढ़ जाता है। किसी काम से जल्दी जाने वाले भी जाम में फंसकर लेट हो जाते हैं। जब ट्रेन यहां से गुजर जाती है तब गेट खोला जाता है। ऐसे में वाहनों की क्रासिंग का काम भी आसान नहीं होता और काफी देर तक जाम में वाहन फंसे रहते हैं। यह समस्या नई नहीं बल्कि कई वर्षों पुरानी है। लोगों ने यहां शीघ्र ओवरब्रिज बनाने की मांग की है।

कोई नहीं सुन रहा ओवरब्रिज बनाने की मांगः

झांसी-मिर्जापुर नेशनल हाइवे से होकर झांसी-मानिकपुर रेलवे ट्रैक गुजरा है। यहां वाहनों की आवाजाही को ट्रेन गुजरने के समय रोकने के लिए रेलवे गेट लगा है, यही अब आवागमन में सबसे बड़ी बाधा बन गया है। लोग काफी समय से रेलवे गेट पर ओवरब्रिज बनाने की मांग करते रहे हैं, लेकिन इस मांग पर किसी ने सही तरीके से आज तक ध्यान नहीं दिया है। हालांकि विधायक ने वरिष्ठ स्तर पर इस बारे में पत्रााचार जरूर किया है पर उसका कोई नतीजा नहीं निकला है। इस प्रोजेक्ट में मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश सरकार सहित सेंट्रल रेलवे डिमाटमेंट द्वारा संयुक्त पहल जरूरी है। बस इसी कारण यह बड़ा प्रोजेक्ट वर्षों से अटका है। इसे लेकर लोग कई बार रेलवे के अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को मांगपत्र भी दे चुके हैं लेकिन रेलवे गेट पर ओवरब्रिज बनाने की मांग को कोई नहीं सुन रहा है, इसे लेकर लोगों में आक्रोश है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local