छतरपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। गुरुवार को प्रगतिशील संयुक्त कर्मचारी संघ, आशा सहयोगिनी, आशा कार्यकर्ता सहित आठ संघ की महिला कर्मचारियों ने सुबह मोटे के महावीर मंदिर में एक सभा का आयोजन किया। इसके बाद वे सड़क पर उतर आई। उन्होंने नारेबाजी करते हुए कलेक्ट्रेट का घेराव किया बाद में स्वास्थ्य मंत्री और मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन दिया है।

इस प्रदर्शन में जिले के 8 ब्लॉकों में गौरिहार, बकस्वाहा, नौगांव, ईशानगर, बड़ामलहरा, छतरपुर, लवकुशनगर और राजनगर से आशा, उषा और आशा सहयोगिनी संघ सहित 8 संघों की महिलाएं शामिल हुईं। पहले मोटे के महावीर मंदिर में एक सभा में जायज मांगों को लेकर चर्चा की गई, इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्‌मी कौरव के मार्गदर्शन एवं हीरा देवी चंदेल जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में हुए इस प्रदर्शन में सचिव शीला अहिरवार, उपाध्यक्ष रेखा खरे, कोषाध्यक्ष नीलम मिश्रा सहित सैकड़ों महिलाओं ने शहर के प्रमुख मार्गो से होते हुए कलेक्ट्रेट का रूख किया। वहां फूल नहीं चिंगारी है हम भारत की नारी हैं और सरकार विरोधी स्वर मुखर करते हुए जोरदार नारेबाजी करके कलेक्ट्रेट का घेराव किया गया। बाद में ज्ञापन देकर चेतावनी दी गई कि यदि सरकार हमारे अधिकारों और मांगों को समय से पूरा नहीं करती है तो जल्दी ही उग्र आंदोलन छेड़ दिया जाएगा। ज्ञापन में वेतन बढ़ाने सहित अन्य सुविधाएं देने की मांग की गई औरत कोरोना काल में ईमानदारी से काम करने के बावजूद सरकार पर उपेक्षा करने का आरोप लगाया गया है।

बैठक में की लोक अदालत पर चर्चा

छतरपुर। आगामी 11 सितंबर को आयोजित होने वाली नेशनल लोक अदालत को लेकर प्रधान जिला न्यायधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण हृदेश श्रीवास्तव के निर्देशन में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें विद्युत व बीमा कंपनियों के अधिकारियों और अधिवक्ताओं के साथ इसे लेकर चर्चा की गई। बैठक में नेशनल लोक अदालत के लिए अधिक से अधिक क्लेम प्रकरणों तथा विद्युत प्रकरणों को राजीनामा के माध्यम से निराकृत करने पर जोर दिया गया। बैठक में अखिलेश कुमार मिश्रा द्वितीय जिला न्यायाधीश, अनिल पाठक सचिव जिला सेवा प्राधिकरण मौजूद रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local