छतरपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। शासकीय महाराजा कॉलेज में गुरुवार को दोपहर साढ़े 12 बजे महिला अपराधों की रोकथाम पर केंद्रित एक महत्वपूर्ण ऑनलाइन कार्यशाला का आयोजन किया गया।

कार्यशाला के मुख्य वक्ता जिला सहायक लोक अभियोजन अधिकारी केके गौतम ने महिलाओं अपराधों के कारणों पर प्रकाश डालते हुए कहा आज मोबाइल क्रांति के दौर में हर छोटे-बड़े हाथों में मोबाइल आ गया है। इससे महिलाओं के प्रति अपराधों में तेजी से इजाफा हो रहा है। सोशल मीडिया का आज सकारात्मक उपयोग कम और नकारात्मक उपयोग ज्यादा होने लगा है। हमें युवाओं में साइबर क्राइम से बचने के प्रति जागरूकता लानी होगी।

कार्यशाला में समाज शास्त्र की प्रो. डा. उषा अग्रवाल ने महिलाओं के प्रति सामाजिक दृष्टिकोण को बताते हुए कहा कि जब हम एक महिला को शिक्षित करते हैं, तो पूरे समाज को शिक्षित करते हैं। उन्होंने विभिन्ना सामाजिक कुरीतियों का उल्लेख करते हुए बालिकाओं और महिलाओं को कुप्रथाओं से बचाने पर जोर दिया। वाणिज्य विभाग के प्राध्यापक डा. एसपी जैन ने अपने उद्बोधन में कहा कि महिला अपराधों की रोकथाम के लिए युवाओं और पुरुषों के दृष्टिकोण को बदलने की आवश्यकता है। हमें परिवार, स्कूल और कॉलेज में लड़कों को इस प्रकार समझाइश देना चाहिए ताकि वे लड़कियों की सुरक्षा, उनके सम्मान के प्रति सचेत रहकर उनकी सुरक्षा का प्रयास करें। कालेज के प्राचार्य डा. एलएल कोरी ने अध्यक्षीय उद्बोधन में महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों को रोकने के प्रति जागरूकता पैदा करने वाली इस तरह की कार्यशालाओं को उपयोगी बताया। कार्यशाला का संचालन प्रो. श्रद्धा पाल ने किया। अंत में प्रो. मोनिका परमार ने आभार जताया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local