छतरपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। रबी सीजन की शुरूआत के साथ किसान खाद का स्टाक जुटाने में जुट गए हैं। ऐसे में खाद न मिलने से अब किसानों का आक्रोश सड़कों पर दिखाई देने लगा है। मंगलवार को छतरपुर में जवाहर मार्ग पर किसानों ने खाद के लिए जाम लगाकर प्रदर्शन किया है।

किसान सहयोग सेंटर पर खाद के लिए किसानों की लंबी-लंबी कतारें लगी थीं। यहां किसानों को खाद नहीं मिल सकी तो वे आक्रोशित हो गए। खाद के लिए परेशान किसानों ने दोपहर के समय हाइवे पर खड़े होकर उसे जाम कर दिया। जाम लगने से हाइवे पर दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई और कुछ देर के लिए अफरा तफरी मच गई। इसकी जानकारी मिलते ही डीएसपी अनुरक्ति सबनानी व ओरछा रोड थाना प्रभारी आनंद सिंह परिहार मौके पर पहुंच गए। उन्होंने किसानों का समझाया कि बुधवार को एसडीएम के सामने खाद का वितरण कराया जाएगा, खाद की किल्लत नहीं होने दी जाएगी। इसके बाद किसानों की नाराजगी दूर हुई और वे सड़क से हट गए। इस दौरान किसानों से शासन और प्रशासन पर कई आरोप लगाते हुए जमकर अपनी भड़ास निकाली। किसानों का आरोप है कि वे दो दिन से खाद के लिए भटक रहे हैं, पर खाद नहीं दी जा रही है।

अधिकारियों ने रैक प्वाइंट का निरीक्षण करके लिए खाद के सैंपल

हरपालपुर। सरकारी गोदामों एवं सहकारी समितियों में डीएपी खाद का स्टॉक खत्म हो जाने के बाद निजी खाद दुकानों से खाद की कालाबाारी रोकने और खाद की गुणवत्ता पर नजर रखने के लिए कृषि विभाग की टीम सतर्क हो गई है। इस टीम ने रैक प्वाइंट का निरीक्षण किया और खाद की दुकानों में जाकर खाद के सैंपल लिए हैं। कृषि विकास अधिकारी व्हीजे सिंह, आरएईओ एसके मिश्रा, सुरेंद्र अग्रवाल, व्हीके शुक्ला ने निजी खाद की दुकानों निरीक्षण किया। दुकानदरों को हिदायत दी कि खाद का विक्रय स्टॉक से मिलान करके निर्धारित रेट पर ही करें। यदि किसी विक्रेता द्वारा महंगे दामों पर खाद की बिक्री करने की शिकायत मिली तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। इसके बाद कृषि विभाग की टीम द्वारा रेलवे स्टेशन के रैक प्वाइंट पर जाकर हाल ही में आई 2460 मीट्रिक टन यूरिया खाद का निरीक्षण किया। रैक प्वाइंट पर खाद के बारिश से बचाब के इंतजामों को देखा और उसके परिवहन की जानकारी ली गई। अधिकारियों ने बताया कि इसमें से सरकारी कोटे में 1725 मीट्रिक टन यूरिया खाद डबल लॉक गोदामों एवं सहकारी समितियों में भेजी जाएगी। बताया गया है कि 2460 मीट्रिक टन यूरिया रैक में से 1225 मीट्रिक टन यूरिया छतरपुर जिले में और 1725 मैट्रिक टन यूरिया टीकमगढ़ जिले को मिलेगा। एक रैक में 70 प्रतिशत खाद सरकारी कोटा एवं 30 प्रतिशत निजी खाद विक्रेताओं को वितरित किया जाता है। कृषि विकास अधिकारी व्हीजे सिंह ने बताया कि टीम ने लहचूरा रोड पर स्थित विपणन संघ के गोदाम में रखें यूरिया के स्टॉक के 6 नमूने लिए जिन्हें जांच के लिए उज्जैन प्रयोगशाला भेजेंगे, जिसकी रिपोर्टर 15 दिनों में आ जाएगी। उनका कहना है कि खाद की गुणवत्ता परखने के लिए कृषि विभाग द्वारा समय-समय पर खाद, बीज व दवाओं के सैंपल लेकर उनकी गुणवत्ता परखने का अभियान सतत रूप से जारी रहेगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local