छिंदवाड़ा। छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उईके द्वारा एक कार्यक्रम में मप्र के सीएम कमलनाथ की तारीफ करना भाजपा नेताओं को नागवार गुजरा है। भाजपा नेता संतोष राय ने इसे लेकर सोशल मीडिया पर नाराजी जताई है।

उल्लेखनीय है कि राज्यपाल उईके छिंदवाड़ा जिले की मूल निवासी हैं। इन दिनों वे जिले के प्रवास पर हैं। बुधवार रात जिले के रोहना गांव में हुए कार्यक्रम में उन्होंने छिंदवाड़ा के पूर्व विधायक व कांग्रेस नेता दीपक सक्सेना के साथ मंच साझा किया। दीपक उनके बचपन के मित्र हैं। लिहाजा दोनों ने पुरानी यादें ताजा कीं।

इस दौरान राज्यपाल ने मंच से मप्र के मुख्यमंत्री की प्रशंसा करते हुए कहा कि कमलनाथ जी मुझे सक्रिय राजनीति में लेकर आए हैं। दलगत राजनीति अपनी जगह है। मैं व्यक्तिगत संबंधों को महत्व देती हूं।

उन्होंने बताया कि दीपक सक्सेना और उनका घर आमने-सामने था। कार्यक्रम में पूर्व विधायक दीपक सक्सेना ने रोहना गांव की ओर से उईके को शॉल, श्रीफल देकर अभिनंदन किया। बदले में उईके ने भी अपने साथ छत्तीसगढ़ से लाया गया स्मृति चिन्ह सक्सेना को भेंट किया। इस दौरे में यहां वे अपनी बचपन की सहेलियों से भी मिलीं।

भाजपा नेता ने यह की टिप्पणी

इस कार्यक्रम को लेकर भाजपा नेता व नगरनिगम के सभापति संतोष राय ने सोशल मीडिया पर अपनी पोस्ट में लिखा कि 'जिनसे हम दुश्मनी निभा रहे हैं, उनसे वो रिश्ते निभा रही हैं।" इस संबंध में राय ने कहा कि मुझे जो भी गलत लगता है, वो स्पष्ट रूप से कह देता हूं। मैंने सोशल मीडिया पर अपनी राय व्यक्त की है।

पहले भी हो चुका विवाद

जब उईके राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग की उपाध्यक्ष थीं, तब कमलनाथ पर लिखी एक किताब के विमोचन कार्यक्रम में भी उन्होंने कमलनाथ की तारीफ की थी। जिस पर स्थानीय नेताओं ने विरोध जताया था। स्थानीय छोटा तालाब के सौंदर्यीकरण में भ्रष्टाचार को लेकर कांग्रेस ने हस्ताक्षर अभियान चलाया था, तब कथित रूप से उईके ने भी इस पर हस्ताक्षर किए थे। जब वे छत्तीसगढ़ की राज्यपाल बनीं, तो भाजपा जिलाध्यक्ष नरेंद्र परमार, पूर्व मंत्री चौधरी चंद्रभान सिंह उनसे मिलने नहीं पहुंचे थे। जिसका कारण भाजपा की गुटबाजी बताया गया था।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close