धूमधाम से मनाया गया मकर संक्रांति पर्व

भक्तों ने लगाई पवित्र नदियों में डुबकी

अपकंट्री डेस्क, छिंदवाड़ा। मकर संक्रांति का पर्व शनिवार को जिले भर में परंपरागत तरीके से मनाया गया। वर्षों से चली आ रही परंपरा के अनुसार यह पर्व 14 जनवरी को मनाया जाता है। मान्यता यह है कि जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है तभी मकर संक्रांति का महत्व माना जाता है।

इस दिन पवित्र नदियों में स्नान के महत्व को देखते हुए जिले की पेंच, कन्हान तथा समीप की नर्मदा और ताप्ती नदी में स्नान करने भक्तों का जत्था रवाना हुआ। कुछ भक्तों ने पवित्र नदियों तक न पहुंचने के कारण घर में ही पानी में तिल डालकर स्नानकर पुण्यलाभ लिया। शहर में स्थित विभिन्ना मंदिरों में भक्तगणों का सुबह से ही तांता लगना शुरू हो गया था। लोगों ने परंपरागत रूप से तिल लगाकर स्नान किया। पर्व पर बनने वाले व्यंजन घरों में बनाए गए और दिनभर एक-दूसरे को बधाई देने का सिलसिला चलता रहा। गली-मोहल्लों के साथ शहर के मुख्य मैदानों पर बच्चों ने पतंग उड़ाकर उत्सव का आनंद लिया।

भगवान को लगाया भोग

सौंसर महाराष्ट्र से लगे जिले की कुछ तहसीलों में इस पर्व को धूमधाम से मनाया गया। इस दिन तिल, गुड़ की मिठाइयां बनाकर भगवान को भोग लगाया गया।

सुहाग की सामग्री की भेंट

पांढुर्णा। महिलाओं ने परस्पर हल्दी-कुमकुम लगाकर तिल के लड्डू और मौसमी फल व सुहाग की सामग्री भेंट की। महिलाओं ने आपस में तिल, गुड़, घ्या गोड़-गोड़ बोला कहकर वर्षभर मीठी-मीठी बातें कहने का संकल्प लिया।

मुंह मीठा करवाया

जुन्नाारदेव। क्षेत्र में मकर संक्रांति का पर्व धूमधाम से मनाया गया। लोगों ने एक-दूसरे को बधाई देकर मुंह मीठा कराया। इस अवसर पर महिलाओं ने सामूहिक रूप से भजन गीत भी गाए।

सूर्यदेव की उपासना की

सिंगोड़ी। सिंगोड़ी में मकर संक्रांति के पर्व पर उत्साह का माहौल नजर आया। यहां सुबह से मंदिरों में भक्तों की भीड़ नजर आई। लोगों ने अलसुबह स्नान कर सूर्यदेव की उपासना की और प्रसाद वितरित किया।

बरमान गए भक्तजन

अमरवाड़ा। तहसील मुख्यालय में शनिवार को लोगों ने इस पर्व को बेहद उत्साह से मनाया। क्षेत्र के विभिन्ना मोहल्लों में महिलाओं ने सामूहिक रूप से एक-दूसरे को सुहाग की सामग्री भेंटकर पर्व की शुभकामना दी। वहीं क्षेत्र के कई भक्तगण स्नान के लिए बरमान स्थित नर्मदा नदी के लिए भी रवाना हुए।

मंदिरों में रही भीड़

चौरई। इस ग्रामीण अंचल में भक्तों ने सुबह-सुबह ही पर्व मनाने की तैयारियां शुरू कर दी थीं। मंदिरों पर श्रद्घालुओं की भीड़ देखी गई। क्षेत्र के श्रद्घालु पेंच नदी में स्नान के लिए ब्रह्म मुहूर्त में ही निकल पड़े। नदी के घाट पर दिनभर मकर संक्रांति के लिए लोगों का तांता लगा रहा।

तिल-गुड़ के बने पकवान

परासिया। कोयलांचल क्षेत्र की खदानों में काम करने वाले बिहार, उत्तरप्रदेश के श्रमिकों और कर्मचारियों ने अपने-अपने तरीके से इस पर्व को मनाया। स्थानीय लोगों ने भी तिल-गुड़ के पकवान बनाए और पूजन आदि कर एक-दूसरे का मुंह मीठा किया।

धार्मिक अनुष्ठान हुए

हर्रई। क्षेत्र के अनेक श्रद्घालु पड़ोसी जिले नरसिंहपुर के बरमान गए। यहां नर्मदा नदी के घाट पर उन्होंने स्नान किया। साथ ही पर्व पर शुभ माने जाने वाले अनुष्ठानों को भी पूरा किया।

भोलेनाथ के किए दर्शन

बिछुआ। मकर संक्रांति के अवसर पर लगने वाले शंकर वन मेले में भक्तों की भीड़ बड़ी संख्या में देखी गई। यहां जिले भर से श्रद्घालु भगवान भोलेनाथ की दर्शन करने पहुंचे। भक्तों ने शंकरवन नदी में स्नान भी किया।

स्कूलों में भी धूमधाम

मकर संक्रांति पर्व की धूमधाम शहर के स्कूलों में भी दिखाई दी। इस अवसर पर भारत भारती स्कूल में विभिन्ना कार्यक्रम आयोजित करने के साथ पतंग प्रतियोगिता भी आयोजित की गई थी। निजी स्कूलों में भी बच्चों ने आकर्षक कार्यक्रम प्रस्तुत करने के साथ पतंग उड़ाकर इस पर्व को मनाया।

फाइल क्रमांक 29

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020