सौंसर। कोरोना के कारण मजदूरों का पलायन जारी है। भूखे, प्यासे मजदूर वाहन न मिलने से पैदल ही अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचने को मजबूर हैं। महाराष्ट्र व अन्य सीमाओं से लौट रहे मजदूरों के लिए सौंसर शरण स्थली बना गया है। सोमवार को लगभग 15 दिहाड़ी मजदूर पहुंचे, जो कि महाराष्ट्र से आ रहे हैं। हर एक-दो दिन के बीच लौट रहे मजदूरों के कारण कोरोना के संक्रमण का डर है। मजदूरों के चेकअप के बाद शेल्टर हाउस सौंसर में ठहराया गया है। सौंसर क्षेत्र में लगभग 6 शेल्टर हाउस प्रशासन द्वारा बनाए गए हैं।

इसके पूर्व भी महाराष्ट्र की सीमा से मजदूर सौंसर आए हैं और इन मजदूरों का स्वस्थ्य परीक्षण करना व शरण प्रशासन दे रहा है। भोजन, पानी की व्यवस्था क्षेत्र में लगभग 10 से अधिक धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक, स्वयंसेवी संगठनों के माध्यम से की जा रही है।

पुजारियों ने सौंपा राज्यपाल के नाम ज्ञापन

सौंसर। महाराष्ट्र राज्य के पालघर में विगत दिनों 2 संतों की भीड़ द्वारा नृशंस हत्या कर दी गई। भीड़ द्वारा संतों को पुलिस प्रशासन की उपस्थिति में लाठियों से पीट पीटकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया गया था। इस नृशंस हत्याकांड से देश का संत समाज हतप्रभ है। इसी तारतम्य में सौंसर क्षेत्र के ब्रह्म समाज एवं चमत्कारिक श्री हनुमान मंदिर जामसांवली के पुजारियों ने राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। संत समाज ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि महाराष्ट्र राज्य के पालघर में निरपराध दो संतों की हत्या कर दी गई, जिसकी संत समाज घोर निंदा करता है। उन्होंने बताया कि भारत सदैव संतों की भूमि रहा है। आरोप लगाया कि शासन-प्रशासन के सामने यह हत्या हुई है, परंतु आज तक कार्रवाई नहीं हुई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस