परासिया। जब असमाजिक तत्व बीच सड़क पर फिल्मी स्टाइल में लोगों के साथ मारपीट करें तो उनसे बचने के लिए एक मात्र सहारा पुलिस होती है। ऐसे में पुलिस उन गुंडों पर कार्रवाई करने की बजाय उल्टा ही पीड़ित को न्यायालय जाने की सलाह दे तो आम आदमी की रक्षा कौन करेगा। ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां आठ दिन पूर्व परासिया बस स्टैंड में एक कार सवार युवक के साथ को बारह से ज्यादा युवकों ने मारपीट की थी। जिसकी शिकायत पीड़ित युवक द्वारा पुलिस थाने में की गई। जिस पर धारा 504 के तहत मामला दर्ज कर पुलिस ने पीड़ित युवक को न्यायालय जाने की सलाह दे डाली। नगर में पुलिस की इस कार्यवाही की चर्चा जोरों पर। 21 जून की रात्रि 11ः30 बजे बड़कुही वार्ड नंबर 5 निवासी 25 वर्षीय आदेश पिता राजकुमार चौरसिया अपने चार पहिया वाहन से छिंदवाड़ा से बड़कुही आ रहा था। तभी गांगीवाड़ा टोल नाके में पीछे से आ रहे एक अन्य वाहन पर बैठे कुछ युवकों से विवाद हो गया। जिसके बाद परासिया आते समय दो से तीन दफा आदेश के वाहन को उन युवकों के द्वारा ओवरटेक कर रोकने की कोशिश की गई। लेकिन उनसे बचता वह परासिया पहुंचा। तभी गुरु गोविंद सिंह चौक में उन युवकों के दर्जनभर साथियों ने वाहन रोककर आदेश के साथ मारपीट करने लगे जिसमे उसे पीठ हुआ चेहरे में बंदी छोटे आई। जिसकी शिकायत लेकर वह परासिया थाने पहुंचा। तो शिकायत पर आरोपियों को पकड़ने की जगह पीड़ित को ही न्यायालय जाने की सलाह दे दी गई । 8 दिन बीत जाने के बाद भी पीड़ित परासिया थाने के चक्कर काट रहा लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हो पा रही। पुलिस की इस तरह की कार्रवाई चर्चा नगर पर जोरों पर है।

वर्जन

पीड़ित युवक की शिकायत पर टोल नाके सहित अन्य स्थानों के सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे हैं। हमलावरों की पहचान नहीं होने के कारण कार्रवाई में देरी हो रही है। जल्द ही आरोपितों की पहचान कर उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

प्रतिक्षा मार्को, नगर निरीक्षक पुलिस थाना परासिया

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close