दमुआ/परासिया। वेस्टर्न कोल फील्ड्स लिमिटेड वेकोलि में इस समय 58 वर्षों की आयु में मेडिकल अनफिट हुए कर्मचारियों के आश्रितों की नौकरियों को लेकर प्रबंधन द्वारा कारण बताओ नोटिस जारी किए गए हैं। प्रबंधन ने 3 दिन के भीतर इन्हें जवाब देने को कहा है। जवाब से संतुष्ट नहीं होने पर आश्रित कर्मचारी को नौकरी से हटाने के बारे में कहा गया है। प्रबंधन के इस कदम से जहां कर्मचारियों में हड़कंप है, वहीं इस मुद्दे पर पांचों श्रमिक संगठन एकजुट हो गए हैं और प्रबंधन के इस तुगलगी फरमान का सामूहिक रूप से विरोध कर रहे है। बीते दिनों श्रमिक संगठन इंटक से एसक्यू जमा, बीएमएस से जयंत अबोले, एचएमएस के शिवकुमार यादव और एटक से सीजे जोसेफ़ तथा सीटू प्रतिनिधि ने वेकोलि सीएमडी मनोज कुमार से मिलकर इस कार्रवाई को गलत बताते हुए विरोध किया। पांचों श्रमिक संगठनों ने कार्यवाही नहीं रोकने पर आंदोलन करने एवं न्यायालय में जाने की चेतावनी दी है। मिली जानकारी अनुसार लगभग 25 वर्ष पहले जब कोयला खदान कर्मचारियों के लिए वेतन समझौता 6 लागू किया गया था। उसमें यह प्रावधान किया गया था कि गंभीर बीमारी से पीड़ित कर्मचारी 58 वर्ष के बाद मेडिकल अनफिट का लाभ नहीं ले सकेगा क्योंकि कोल सेक्टर में कामगारों के सेवानिवृत्ति की उम्र 60 वर्ष रखी गई है, लेकिन वेकोलि में ऐसा भी हुआ कि बहुत से कर्मचारी 58 वर्ष की आयु पार करने के बाद भी मेडिकल अनफिट हुए। इनमे कुछ कर्मचारी तो सेवानिवृत्ति आयु 60 वर्ष पूरे होने के कुछ दिन पहले तक मेडिकल अनफिट हुए। मेडिकल अनफिट होने के आधार पर इनके आश्रितों को कम्पनी में नौकरी दी गई। विजिलेंस की जांच के बाद कंपनी ने वर्ष 2012, 2013 और 2014 में मेडिकल अनफिट बेस पर आश्रित के रूप में नौकरी प्राप्त करने वाले कर्मचरियों को जिनके पालक 58 वर्ष की आयु पार करने के बाद मेडिकल अनफिट हुए थे, ऐसे 300 से अधिक आश्रित कर्मचारियों को नोटिस जारी कर उनका पक्ष मांगा है। बताते हैं कि इस मामले की परिधि में वेकोलि पाथाखेड़ा क्षेत्र से 99 कर्मचारी और तथा लिे के कन्हान और पेंच क्षेत्र से 100 से ज्यादा कर्मचारी आ गए है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close