छिंदवाड़ा (नवदुनिया प्रतिनिधि)। केंद्रीय संचार ब्यूरो क्षेत्रीय कार्यालय छिंदवाड़ा सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा देश की आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में आजादी के अमृत महोत्सव पर आधारित अमर बलिदानियों की याद तथा स्वतंत्रता संग्राम पर केंद्रित दो दिवसीय चित्र प्रदर्शनी का समापन राजमाता सिंधिया शासकीय कन्या महाविद्यालय के सभाकक्ष में कार्यक्रम के मुख्य अतिथि 8वीं बटालियन कमांडेंट आइपीएस अधिकारी वाहिनी सिंह के आतिथ्य में संपन्ना हुआ। इस अवसर पर अन्य अतिथियों के रूप में जन अभियान परिषद् के जिला समन्वयक पवन सहगल और नेहरु युवा केंद्र के जिला युवा अधिकारी के के उरमलिया सहित समाजसेवी डीएन अग्निहोत्री, अशोक मिश्रा, श्यामल राव, विनोद तिवारी, रविंद्र नाफ़डे, अखिलेश जैन सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। कार्यक्रम में सबसे आकर्षण का केंद्र एसएएफ का बैंड रहा। जिन्होंने उपस्थित जनों के बीच राष्ट्रभक्ति से ओतप्रोत प्रस्तुति से लोगों में जोश भरा। मुख्य अतिथि ने केंद्रीय संचार ब्यूरो द्वारा आयोजित दो दिवसीय चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन करते हुए इसकी प्रशंसा करते हुए कहा कि हमें बलिदानियों के संघर्ष की कहानी इन चित्रों के माध्यम से देखने को मिलती है। आज की युवा पीढ़ी को देश की आजादी में जिन महापुरुषों ने अपना योगदान दिया उनके जीवन की कहानी पता होना चाहिए, देश में योवाओं की संख्या सबसे ज्यादा है युवा के रोल माडल हमारे ये सभी महापुरुष हो सकते हैं। हम इनके आदर्शों को आत्मसार कर सच्चे देश सेवक हो सकते हैं।कार्यक्रम में स्वागत उद्बोधन प्रस्तुत करते हुए प्रचार अधिकारी राम सहाय प्रजापति ने बताया कि छिंदवाड़ा के प्रबुद्धजन, साहित्य जगत की हस्तियां, स्कूली एवं महाविद्यालीन छात्र. छात्राएं व आम जन इस चित्र प्रदर्शनी को देखने आये थे।इससे प्रतीत होता है की शासन की मंशानुसार आजादी प्राप्त करने में जो बलिदान महापुरुषों ने दिया है उसे जानने और देखने के लिए लोग उत्सुक हैं। एनवायके के जिला समन्वयक केके उरमलिया ने कहा कि मप्र के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों पर आधारित चित्र प्रदर्शनी देखकर युवा पीढ़ी को नई दिशा मिलेगी, समापन पूर्व शासकीय कन्या जवाहर हाई स्कूल के बच्चों की फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। साथ ही छात्र छात्राओं के सांस्कृतिक प्रस्तुतियां प्रस्तुत कीं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close