भितरवार। नईदुनिया न्यूज

शनिवार को दो दर्जन से अधिक कंजर समुदाय की महिलाएं एसडीएम कार्यालय पहुंची। वहां उन्होंने सुबह से देर शाम तक इंतजार करने के बाद पहुंचे एसडीएम अश्वनी कुमार रावत को सामूहिक रूप से ज्ञापन सौंपकर परिवार के भरण-पोषण इत्यादि की व्यवस्था कराने की मांग की। ज्ञापन में उल्लेख है कि 100 साल से हमारे पुरखे चोरी, चपाटी, लूटपाट इत्यादि का काम करके घर परिवार का भरण पोषण करते थे, लेकिन जैसे-जैसे व्यवस्थाओं में परिवर्तन आया तो हम लोगों ने पूर्वजों द्वारा किए गए कामों को छोड़ते हुए अपनी मेहनत मजदूरी की जिंदगी जीने के लिए छोटा-मोटा काम शुरू किया। बच्चों का भरण पोषण और उनकी शिक्षा दिलाने का धीरे-धीरे काम शुरू हुआ। पिछले दिनों से प्रशासन द्वारा हमारे बच्चों पर जबरदस्ती झूठे केस लगा दिए गए हैं। हमारे पास जमीन तक नहीं है कि हम उस पर खेती कर अपने बच्चों का भरण पोषण कर सके और न ही रहने के लिए आवास हैं। जब हमारे काम धंधों को छीन लिया गया है तो हमें रोजगार के लिए भी संसाधन उपलब्ध कराए जाएं। 100 वर्ष पूर्व से रह रहे पूर्वजों के स्थानों पर हमने रैन बसेरा के लिए पक्की छत के घर बना लिए जिसे भी प्रशासन तोड़ने की फितरत में लगा है। ऐसी स्थिति में हम लोग बिल्कुल पूरी तरह से सड़क पर आ जाएंगे। इसलिए हमारे रैन बसेरों को न तोड़ा जाए। साथ ही जो झूठे केस लगाए गए हैं उन्हें वापस लिए जाएं। इन मांगों को लेकर लज्जा बाई, मंजू, रीमा, संगीता, शर्मिला, कविता, सविता, रीना, कल्पना, ममता आदि महिलाएं चक मियांपुर बमरोला टोला, दुबाह टांका, गोहिंदा चक आदि जगहों से पहुंची और सामूहिक रूप से सभी ने अपनी व्यथा सुनाते हुए अपनी मांगों से प्रशासन को अवगत कराया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags