डबरा। नईदुनिया प्रतिनिधि

शहर में इन दिनों बिजली कंपनी की ओर से अघोषित कटौती की जा रही है। कंपनी की ओर से बार-बार की जा रही ट्रिपिंग से लोगों का जीना मुहाल है। इस समस्या को लेकर मंगलवार को दो दर्जन से अधिक महिला व बच्चों ने गोमतीपुरा स्थित बिजली कंपनी के कार्यालय का घेराव किया। इस दौरान उन्होंने जमकर नारेबाजी की। कर्मचारियों ने तुरंत ही कार्यालय के मुख्य गेट पर ताला लगा लिया। सूचना मिलने पर कंपनी के एई हिमांशु शर्मा मौके पर पहुंचे और उन्होंने लोगों को समझाया। साथ ही पांच दिन में सुचारू रूप से बिजली सप्लाई किए जाने का आश्वासन दिया, तब लोग शांत हुए।

उल्लेखनीय है कि इन दिनों सबसे अधिक परेशानी वार्ड क्रमांक 15 में देखने को मिल रही है। यहां पर पिछले 10 दिनों ने दिन में दो से तीन घंटे तक की अघोषित कटौती की जा रही है। इस कारण लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा शहर में प्रतिदिन दिन में कम से कम 10 बार बिजली ट्रिपिंग होने से लोगों के बिजली से संबंधित कार्य नहीं हो पा रहे है। इसके विरोध में मंगलवार को दो दर्जन से अधिक महिलाएं, पुरुष व बच्चों ने बिजली कंपनी के कार्यालय का घेराव किया। अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वार्ड 15 में रहने वाली कमलाबाई, सावित्री, शारदा, मीरा, राजेश, राहुल आदि ने बताया कि कंपनी के अधिकारियों से इस संबंध में पूर्व में भी शिकायत की गई थी लेकिन उनकी ओर से समस्या का समाधान करने की ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया। बिजली कंपनी के कार्यालय का करीब एक घंटे तक महिलाओं ने घेराव किया।

कर्मचारी डरे और लगा लिया गेट

जब महिलाओं की ओर से कंपनी कार्यालय का घेराव किया गया और कंपनी के अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, तब कुछ लोग कार्यालय के अंदर जाने लगे। तो आक्रोशित भीड़ को देखकर कंपनी के कर्मचारियों ने तुरंत चैनल गेट लगा दिया, ताकि भीड़ अंदर न घुस पाए। बताया जा रहा है कि यदि कंपनी के कार्यालय का गेट नहीं लगता, तो भीड़ वहां पर उपद्रव कर सकती थी।

पांच दिन का मांगा समय

घेराव की सूचना मिलने पर कंपनी के एई हिमांशु शर्मा मौके पर पहुंचे और उन्होंने महिलाओं को समझाया कि तकनीकी खराबी के चलते ऐसा हो रहा है। लेकिन महिलाएं जिद पर अड़ी थीं कि आज ही इस खराबी की दूर किया जाए। बाद में एई ने उन्हें समझाया कि इस काम में कम से कम पांच दिन का समय लगेगा। इसके बाद महिलाएं मानी। महिलाओं ने बताया कि यदि पांच दिन में समस्या का हल नहीं होता है तो उनकी ओर से उग्र प्रदर्शन किया जाएगी।

नहीं भर पा रहे पानी

वार्ड क्रमांक 15 में रहने वाली महिलाओं ने बताया कि बिजली के न होने से पिछले 10 दिनों से पेयजल संकट बना हुआ है। जिस समय पानी आता है उसी समय ट्रिपिंग हो जाती है। इस कारण मोटरें नहीं चल पाती हैं। उन्होंने बताया कि पानी नहीं होने के चलते उन्हें प्राइवेट टैंकरों से पानी खरीदना पड़ता है या अन्य वार्डों में लगे हैंडपंपों से पानी भरने को मजबूर होना पड़ रहा है।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket