पिछोर। नईदुनिया न्यूज

पिछोर क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत गढ़ी की आदिवासी दफाई से एक बाल विवाह होने से प्रशासन की टीम ने रोक दिया। सूचना मिलने पर पहुंची टीम ने पहले बालिका के उम्र संबंधी दस्तावेज जांचे। इनमें लड़की की उम्र 16 साल 10 माह निकली। इसके बाद प्रशासन की टीम ने विवाह रुकवा दिया। साथ ही मोहना के पास रेहट से बारात आने वाली थी, उसे आने से रोक दिया गया।

जानकारी के अनुसार, किसी ने कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह को शिकायत की थी कि उक्त गांव में कम उम्र की लड़की की शादी की जा रही है। तभी पिछोर से महिला बाल विकास सुपरवाइजर शिल्पा सिंह पिछोर थाना पुलिस को लेकर लेकर पहुंची। वहां जांच की गई, तो जिस बच्ची की शादी हो रही थी वे नाबालिग निकली। अंकसूची के हिसाब से उसकी उम्र 16 वर्ष 10 माह पाई गई। तभी प्रशासन ने बच्ची के माता-पिता को समझाइश दी और 18 साल से पहले शादी नहीं करने की चेतावनी दी। इधर मोहना के पास रेहट गांव से बारात आ रही थी, उनको सूचना दी कि बरात लेकर नहीं आए शादी रोक दी गई है।

इनका कहना है

गढ़ी आदिवासी दफाई में बाल विवाह की सूचना मिली थी। जांच में सही पाया गया तो नाबालिग की शादी रुकवा दी। परिवार वालों को समझा दिया है कि वह 18 वर्ष के बाद ही लड़की की शादी करें।

- शिल्पा सिंह, सुपरवाइजर, महिला बाल विकास विभाग, पिछोर।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना