भितरवार। नईदुनिया न्यूज

जनपद अध्यक्ष अनीता मोती सिंह रावत शनिवार-रविवार की रात को 1 बजे करिवावटी पहुंची और सिंध नदी के लोहारी घाट से अवैध रेत ला रहे तीन डंपरों को पकड़ा और थाने भिजवा दिया।

जनपद पंचायत अध्यक्ष ने बताया कि मुझे पिछले चार-पांच दिनों से सूचना मिल रही थी कि सिंध नदी के लोहारी घाट से रेत माफिया द्वारा जमकर रेत का उत्खनन किया जा रहा है और रात के अंधेरे का फायदा उठाकर परिवहन किया जा रहा है। लगातार मिल रही सूचनाओं के आधार शनिवार-रविवार की रात लगभग 1 बजे करियावटी पहुंची। वहां मेरे पहुंचने से पहले चार-पांच डंपर रेत भरकर निकल चुके थे। थोड़ी देर के इंतजार के बाद तीन डंपर रेत भरकर आए तो उन्हें रोक लिया और रेत की रॉयल्टी मांगी, लेकिन डंपर चालक रॉयल्टी नहीं दिखा सका। डंपर चालक ने बताया कि नदी में अभी लगभग 8-10 डंपर और खड़े हैं। परंतु रेत माफिया को मेरे खड़े होने की सूचना मिलने पर उन्होंने डंपरों को नदी में रोक दिया। लगभग दो घंटे इंतजार के बाद भी जब कोई डंपर नहीं आया तो मैं तीनों डंपरों को लेकर थाने पहुंची और उन्हें थाना प्रभारी के सुपुर्द करा दिया गया।

घाट चलने पर भी नहीं हुआ तैयार पुलिस प्रशासन

जनपद अध्यक्ष ने बताया कि रात्रि लगभग 1 से 2 बजे बीच करियावटी और बागवई के बीच डंपर रोके गए। उन्हें भितरवार थाने ले जाया गया। इस दौरान एक ट्रैक्टर-ट्रॉली को और पकड़ा। उन्हें पुलिस के सुपुर्द करके आवेदन दिया गया और प्रशासन से मांग की गई की वर्तमान में लोहारी घाट स्थित सिंध नदी में 7 से 8 पनडुब्बी चल रही है और एक दर्जन डंपर खड़े हैं। उन पर कार्रवाई के लिए मेरे साथ तो पुलिस प्रशासन की कोई भी अधिकारी तैयार नहीं हुआ।

पूर्व में भी शिकायत कर चुकी है जनपद पंचायत अध्यक्ष

रेत के अवैध कारोबार के खिलाफ जनपद पंचायत अध्यक्ष लगभग 6 माह पूर्व एसडीएम, तहसीलदार, एसडीओपी और थाना प्रभारी को लिखित आवेदन देकर बता चुकी हैं कि माफिया द्वारा लोहारी घाट पर किए जा रहे अवैध उत्खनन से नदी तथा आसपास का सौंदर्य बिगड़ रहा है। अवैध उत्खनन से नदी में गहरे-गहरे गड्ढे हो गए है। आए दिन दुर्घटनाएं हो रही है और जलीय जीव-जंतुओं पर खतरा मंडरा रहा है।

धारा 144 लगी, फिर भी चल रहा अवैध कारोबार

जिले में धारा 144 लगी हुई है। इसके चलते भितरवार सहित आसपास के क्षेत्र में पुलिस प्रशासन पूरी मुस्तैदी से पेट्रोलिंग के माध्यम से शांति व्यवस्था बनाए रखने में अहम भूमिका निभा रहा था। इसके बावजूद रेत का अवैध कारोबार चलता रहा और प्रशासन के अधिकारियों को भनक तक नहीं लगी। जनपद पंचायत अध्यक्ष सूचना मिलने पर आनन-फानन में अपने गांव अमरोल से भितरवार तक पहुंच गई और तीन डंपर जब्तकर लिए पुलिस के सुपुर्द करा दिए।

Posted By: Nai Dunia News Network