डबरा। नईदुनिया प्रतिनिधि

इस बार रक्षाबंधन पर कोरोना संक्रमण का बड़ा डर है। इसके चलते बस ट्रेन आदि बंद हैं। शहर में लॉकडाउन हैं और आने-जाने की सुविधा तक नहीं है। इस कारण अधिकतर बहनें अपने मायके नहीं जा सकी। इधर बाजार में रविवार को सुबह से देर शाम तक बहनें अपने भाइयों के लिए राखी खरीदती रही। शहर में तीन दिन का लॉकडाउन प्रभावी है, लेकिन राखी बाजार के खुलने की अनुमति है। मिठाई, राशन, दूध सब्जी और कास्मेटिक सामान की दुकाने खोले जाने की भी अनुमति दी गई है। इस कारण अधिकतर बाजार में सूनापन सा छाया रहा। शहर के ओवरब्रिज के नीचे सजने वाले बाजार में राखी की दुकानों पर जरूर भीड़ नजर आई। लोग कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें, इसे देखते हुए शहर पुलिस की गाड़ी पेट्रोलिंग करती रही। जिन दुकानदारों ने बिना अनुमति के दुकानें बाहर निकाली थी, उनको समझाइश देकर बंद कराया गया। खास बात ये है कि इस बार बाजार में चाइना मेड राखियां गायब रही। लोकल और स्वेदशी राखी ही बाजार में बिकती दिखीं।

बॉक्स

लॉकडाउन देख टैक्सी चालकों ने बढ़ाया भाड़ा

रक्षाबंधन पर बस ट्रेन के बंद होने के बाद आने जाने के लिए प्राइवेट टैक्सी एक माध्यम बचता है। लेकिन टैक्सी चालकों ने लॉकडाउन और त्योहरी सीजन का फायदा उठाने के लिए भाड़े के रेट बढ़ा दिए। यानी जो टैक्सी पिछले महीने तक 1500 से दो हजार रुपये में मिलती थी वह 2500 से तीन हजार रुपये तक में मिल रही है। अगर बहनों को अपने भाइयों के यहां जाने के लिए टैक्सी ले जानी पड़ी, तो उसका भाड़ा बढ़कर देना होगा। इस तरह लॉकडाउन का असर यातायात पर पड़ता नजर आया।

बॉक्स

चारों तरफ सजी राखियों की दुकानें

शहर में ओवरब्रिज के नीचे, सराफा बाजार, रेलवे स्टेशन, जवाहर चौक आदि जगहों पर राखी की दुकानें और हाथठेला सुबह से ही सज गए थे। लेकिन लॉकडाउन के चलते इस बार बाजार में उतनी भीड़ नहीं थी इतनी पिछले रक्षाबंधन पर हुई। इस बार मिठाई दुकानों पर भी कोरोना संक्रमण के चलते खरीदी मंदी रही। प्रशासन ने बाहर स्टॉल लगाने पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस कारण दुकानदारों ने भी ज्यादा दिलचस्पी नहीं ली।

जेल में कैदी भाइयों का राखी नहीं बांध सकेंगी बहनें

इस बार कोरोना के कारण जेल में बंद कैदी भाइयों को बहनें राखी नहीं बांध पाएंगी। इस बार जेल प्रबंधन ने खुली मुलाकात को प्रतिबंधित किया है। पहलीबार ऐसा होगा कि जैल में बंद कैदियों को उनकी राखी नहीं बांध सकेंगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस