डबरा। नईदुनिया प्रतिनिधि

परिसीमन के बाद डबरा गांव के आसपास का क्षेत्र भले ही नगर पालिका क्षेत्र में शामिल कर लिया गया है, लेकिन वहां पर रहने वाले लोग आज भी मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं। डबरा गांव के पास स्थित अयोध्या कॉलोनी को बसे भले ही लगभग 20 साल बीत गए हैं, लेकिन यहां अभी तक न तो सीसी रोड बन सकी है और न ही पानी की निकासी के लिए नालियों का निर्माण हो सका है। परिसीमन के बाद भी उक्त कॉलोनी में क्षेत्रीय पार्षद द्वारा किसी प्रकार का विकास कार्य नहीं कराया गया है। नगर पालिका अधिकारी और स्थानीय पार्षद की अनदेखी के कारण कॉलोनी में रहने वाले लोगों को नारकीय जीवन गुजारना पड़ रहा है। सीसी रोड और पानी निकासी की व्यवस्था नहीं होने के कारण बरसात के मौसम में परेशानी ज्यादा बढ़ जाती है।

गौरतलब है कि वार्ड क्रमांक 2 के अंतर्गत आने वाली अयोध्या कॉलोनी को नगर पालिका सीमा शामिल हुए पांच साल बीत गए हैं, लेकिन नगर पालिका द्वारा अभी तक मूलभूत सुविधाएं मुहैया नहीं कराने के कारण क्षेत्रीय लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। परिसीमन के बाद बाद भी कॉलोनी में न तो सीसी रोड बनवाई गई है और न ही गंदे पानी की निकासी के लिए नाले-नालियां बनवाए गए हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि अभी तक गांव में कोई भी विकास कार्य नहीं कराए गए हैं। पानी की निकासी के लिए नालियां नहीं होने के कारण घरों से निकलने वाला गंदा पानी आसपास स्थित खाली प्लॉटों में ही भरा रहता है। इस कारण कॉलोनी में हमेशा मच्छरों का प्रकोप बना रहता है। कॉलोनी में व्याप्त समस्याओं के समाधान के लिए कई बार नगर पालिका अधिकारी और जनप्रतिनिधियों को आवेदन दे चुके हैं, परंतु अभी तक किसी ने भी ध्यान नहीं दिया है।

चंदा करके डलवाई है मुरम

स्थानीय लोगों का कहना है कि कॉलोनी में सीसी रोड नहीं बनाए जाने के कारण बरसात के दिनों से ज्यादा समस्या होती है, क्योंकि पानी निकासी के लिए नालियां नहीं होने के कारण घरों के आगे पानी भर जाने से लोगों को निकलने के लिए भी परेशान होना पड़ता है। इस संबंध में स्थानीय पार्षद से बरसात से पूर्व सड़क बनवाने के लिए कहा था परंतु पार्षद द्वारा ध्यान नहीं दिए जाने के कारण क्षेत्रवासियों को चंदा करके मुरम डलवाना पड़ी थी, तक कहीं जाकर लोगों का निकलना सुगम हुआ था।

न पानी की लाइन है न हैंडपंप

स्थानीय लोगों ने बताया कि कॉलोनी में पानी का भीषण संकट है क्योंकि पेयजल की पूर्ति के लिए कॉलोनी में अभी तक न तो पानी की लाइन डल सकी है और न ही पर्याप्त हैंडपंप लगे हैं। हालांकि कुछ लोगों ने अपने घरों में बोरिंग करा रखी है। इससे कॉलोनी में रहने वाले लोग बोरिंगों से पानी भरकर पेयजल की पूर्ति कर रहे हैं। हालांकि कॉलोनी में कई लोग ऐसे है जिनकी बोरिंगों से पानी निकलना ही बंद हो गया है।

खाली प्लॉटों में भरा रहता है गंदा पानी

लोगों ने बताया कि कॉलोनी में व्यविस्थत नालियां नहीं होने के कारण पानी की निकासी नहीं हो पा रही है। खाली प्लॉटों में भर रहे गंदे पानी के कारण वातावरण में दुर्गंध फैली रहती है। इस कारण लोगों का घरों के बाहर बैठना भी मुश्किल होता है। काफी समय से भरे गंदे पानी के कारण कॉलोनी में पनप रहे मच्छर-मक्खियों के कारण संक्रामक बीमारी फैलने का भय बना रहता है। गंदे पानी की निकासी के लिए नगर पालिका अधिकारियों से कई बार शिकायत कर चुके हैं, लेकिन किसी ने भी इस ओर ध्यान नही दिया है।

इनका कहना है

कॉलोनी के कुछ हिस्से में सीसी रोड बन चुकी है और जहां नहीं बनी है उसके टेंडर हो चुके हैं। जहां तक पानी की बात है तो नगर पालिका द्वारा प्रतिदिन पानी का टैंकर भिजवाया जाता है, ताकि लोगों को पानी के लिए परेशान न होना पड़े।

-आरती मौर्य, अध्यक्ष नगर पालिका डबरा।

2

-घरों में पानी के लिए पाइप लाइन नहीं होने के कारण हम लोगों को पीने के पानी के लिए टैंकर का इंतजार करना पड़ता है। कई बार तो टैकर एक-दो दिन छोड़कर आता है।

तेजपाल प्रजापति, स्थानीय निवासी।

3

-कॉलोनी में गंदे पानी की निकासी के लिए नाली नहीं होने के कारण घरों से निकलने वाला गंदा पानी खाली प्लॉटों में भरा रहता है। इस कारण कॉलोनी में मच्छरों का प्रकोप बना रहता है और लोगों को मच्छर जनित बीमारी फैलने का भय बना रहता है।

-मुन्नाी परिहार, स्थानीय निवासी।

4

-पेयजल की पूर्ति के लिए हम लोग कई बार स्थानीय पार्षद और नगर पालिका अधिकारी से कॉलोनी में पानी की लाइन डलवाने के लिए कह चुके हैं, लेकिन अभी तक घरों तक नल नहीं पहुंच सके हैं। पानी के लिए टैंकर या दूसरे लोगों की बोरिंग के भरोसे रहना पड़ता है।

-धर्मेन्द्र सिंह, स्थानीय निवासी।

Posted By: