दमोह। दिगंबर जैन धर्मशाला में आयोजित सभा में आचार्य निर्भय सागर महाराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस तरह से भारतीय संस्कृति और धर्म की रक्षा के लिए अपने जीवन काल में सार्थक योगदान दिया है वह आने वाले समय में इतिहास की पुस्तकों में पढ़ाया जाएगा। श्रवणबेलगोला में 12 वर्ष में होने वाले भगवान बाहुबली के महामस्तकाभिषेक समारोह में वर्ष 2018 में शामिल होने पहुंचे प्रधानमंत्री श्री मोदी को स्वयं रचित ग्रंथ भेंट करने के संस्मरण का जिक्र करते हुए आचार्य श्री ने कहा कि आज भी प्रधानमंत्री श्री मोदी ने अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि में मंदिर निर्माण शिलान्यास अवसर पर सम्मेद शिखर से श्रवणबेलगोला तक का जिक्र करके जो सर्व धर्म समभाव का परिचय दिया है वह अनुकरणीय है। आचार्य श्री ने समस्त भारत वासियों व देश के प्रधानमंत्री सहित समस्त मंत्री मंडल को इस राम मंदिर के शिलान्यास पर शुभकामनाएं देकर मंगल आशीर्वाद प्रदान कि या। उन्होंने कहा श्री मोदी एक लोह पुरुष हैं वे देश की सेवा निस्वार्थ भाव से कर रहे हैं आगे भी करेंगे। आचार्य श्री ने कहा अयोध्या की रचना प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ के जन्म के पूर्व इंद्र की आज्ञा से कु बेर ने रचना की थी। 24 जैन तीर्थंकरों का जन्म जैन आगम के अनुसार अयोध्या में ही होता है और मोक्ष सम्मेद शिखर बिहार से होता है, लेकि न कालदोष के कारण तीर्थंकरों की जन्मभूमि आयोध्या श्रावस्ती, कौशांबी, चंद्रपुरी, सारनाथ, चंपापुर, कंपिला, हस्तिनापुर, राजगृही, बनारस, मिथिलापुरी, कुंडलपुर बिहार में जन्म हुआ है। ये सभी नगरी देवों द्वारा रचित होती है। कै लाश पर्वत (बद्रीनाथ), गिरनार जी (गुजरात), चंपापुर आदि तीर्थ से मोक्ष प्राप्त कि या है। अयोध्या में एक जैन मंदिर भी ऐसा बनना चाहिए जो पर्यटक व एतिहासिक हो जिसमें तीर्थंकरों के जीवन व्रत्तात अंकि त हो। आचार्य श्री ने कहा कि जैन आचार्य श्यासन, वस्त्र, सोने आदि के सिंहासन व राज महल के त्यागी होते हैं। साधु में वीतरागता देखो, राग नही, नगन्यता का विरोध न करो क्योंकि नग्न साधु में त्याग, सयंम और भगवता झलकती है। इसलिए विरोध करना है तो उन फिल्मी दुनिया के अभिनेत्री का विरोघ करो जिनके पर्दे में भी सब कु छ गलत दिखता है। उन्हे देखकर हमारे बेटा, बेटी संस्कारहीन हो रहे हैं और व्यसनों में फस गए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020