सिंग्रामपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। रानी दुर्गावती अभयारण्य के जबेरा क्षेत्र में मौजूद नजारा पॉइंट पर शनिवार सुबह सेल्फी ले रहे जबलपुर के एक युवक का पैर फिसल गया और वह ढाई सौ फीट नीचे गहरे जंगल में जा गिरा। जहां उसकी मौत हो गई। युवक के साथ मौजूद अन्य दो दोस्तों ने उसकी तलाश की, लेकि न जब वह नहीं खोज पाए तो वापस जबलपुर चले गए और वहां से स्वजनों के साथ दोबारा जबेरा पहुंचे। यहां पर उन्होंने सिंग्रामपुर पुलिस को घटना की सूचना दी। इसके बाद पुलिस व वन विभाग के कर्मचारियों ने युवक की तलाश शुरु की। सुबह आठ बजे हादसा हुआ था और शव साढ़े सात घंटे बाद दोपहर साढ़े तीन बजे खाई में डला मिला। जिसे बाहर निकालने में भी वनकर्मियों और पुलिस को परेशानी हो रही है। बताया जा रहा है कि करीब दो घंटे अभी शव को निकालने में लग जाएंगे।

मृतक स्नेह त्रिवेदी के साथी हर्ष ने बताया कि वह शनिवार सुबह जबलपुर के गोरखपुर से नजारा पॉइंट पहुंचे थे। तीन दोस्त बाइक से नजारा पॉइंट पहुंचे थे। यहां पर उसका दोस्त मृतक स्नेह अलग-अलग जगह खड़े होकर सेल्फी ले रहा था, जिस समय यह हादसा हुआ वह पानी लेने गए थे। जब लौटकर आए तो उन्होंने देखा कि उसका दोस्त दिखाई नहीं दे रहा है तो वह इधर, उधर उसे खोजते रहे। नजारा पॉइंट से नीचे पहाड़ी के एक हिस्से में उसके दोस्त के पैर की चप्पल दिखाई दी। इसके बाद उन्होंने दोस्त को खोजने का प्रयास कि या, लेकि न कई फीट की गहराई होने के कारण वह उसे नहीं खोज पाए और घबराहट में अपने घर वापस पहुंच गए। वहां जाकर उन्होंने अपने स्वजनों व अपने दोस्त के स्वजनों को घटना की जानकारी दी और फिर दोबारा घटना स्थल पहुचे।

साढ़े सात घंटे की मशक्कत के बाद खोजा गया शव

युवक की पूरे दिन वनकर्मी और सिंग्रामपुर चौकी प्रभारी उमेश उपाध्याय के साथ पुलिसकर्मी खाई में तलाश करते रहे, लेकि न घना जंगल होने के कारण शव कहीं दिखई नहीं दिया। दोपहर साढ़े तीन बजे शव जंगल में मिला जिसे बाहर निकालने प्रयास शुरु कि ए गए। इस मामले में डीएफओ एमएस उइके ने बताया सुबह सूचना मिलने के बाद ही पुलिस व वन विभाग के कर्मचारी युवक के शव को खोजने में जुटे रहे। कई घंटे बाद शव को खोजने में सफलता मिली। उन्होंने बताया कि अभयारण्य के अंदर घूमने का समय सुबह आठ बजे से शुरु होता है, लेकि न जानकारी लेने पर यह पता चला है कि तीनों युवक बिना कि सी को बताए चोरी छिपे सुबह साढ़े छह बजे नजारा पाइंट में प्रवेश कर गए और जब तक यहां वनकर्मियों की ड्यूटी शुरु हो पाती तब तक यह हादसा हो गया। डीएफओ श्री उइके ने बताया कि नजारा पांइट की ऊंचाई करीब ढाई सौ फीट है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local