सिंग्रामपुर(नईदुनिया न्यूज)। सिग्रामपुर स्तिथ रानी दुर्गावती अभयारण्य की पहचान धार्मिक ऐतिहासिक प्राकृतिक पर्यटन के रूप में होने के साथ-साथ अभयारण्य में मौजूद वन्य प्राणियों की अच्छी खासी संख्या की वजह से प्रदेश स्तर बनी हुई है।

अभयारण्य में दानीताल तालाब पानी की उपलब्धता व समृद्ध जंगल होने से यहां शाकाहारी व मांसाहारी वन्यजीव बड़ी संख्या में मौजूद हैं। यहां वन्य प्राणी का स्वच्छंद विचरण से प्रकृति का सौंदर्य कई गुना बढ़ जाता है और वन्य प्राणी आमजन के आसपास रहते हुए सह अस्तित्व की स्थिति का स्मरण कराते हैं। जहां शेर, बाघ, हाथी को छोड़कर लगभग सभी प्रजाति के वन्य प्राणी पाये जाते है जिसमें मोर, गुलबाघ, रीछ, हिरन, चीतल, सांभर, गिद्ध अच्छी खासी संख्या में मौजूद है। वही सिंगौरगढ़ जलाशय में मगरमछ भी पाए जाते है वन्य प्राणियों के रानी दुर्गावती अभयारण्य में स्वच्छंद विचरण करते हुए अक्सर देखा जा सकता है और इन वन्य प्राणियों को दानीताल तालाव में भोर व संध्या के समय अक्सर पानी पीने के लिये रानीताल तालाब में आते है।

वन्य प्राणी का स्वच्छंद विचरण का दृश्य यहां के पर्यटकों को खूब लुभाता है और वन्य प्राणियों को करीब देखने की चाहत रखने वाले लोग अक्सर सुबह और शाम वन्य प्राणियों के दीदार करने के लिए पहुंचते हैं और अच्छी काफी संख्या में यहां पर वन्य प्राणी पानी पीने के लिए स्वच्छंद विचरण करते हुए दिखाई देते हैं और यह मनोरम दृश्य लोगों को आनंदित कर देता है। कुछ ऐसा ही दृश्य नीलगाय, चीतल, मोर का दृश्य जैसे ही लोगों को दिखाई दिया वह अपने-अपने मोबाइल कैमरा में इस मनोरम दृश्य को कैद करने में कोई पीछे नहीं रहा॥

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close