दमोह। नईदुनिया प्रतिनिधि। Madhya Pradesh News सागर लोकायुक्त ने वन विभाग के डिप्टी रेंजर राधेश्याम श्रीवास्तव को 7 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया। आरोपित डिप्टी रेंजर ने 10 हजार की मांग की थी और इसकी दूसरी कि श्त पीड़ित द्वारा शुक्रवार को देनी थी। इसी बीच उसने सागर लोकायुक्त में शिकायत कर दी। लोकायुक्त डीएसपी राजेश खेड़े ने बताया कि दो दिन पहले उत्तम पटेल ने शिकायत दर्ज कराई थी।

पीड़ित उत्तमलाल पटेल निवासी बड़गुवां थाना नोहटा ने बताया कि वह खेती-मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करता है। बारिश में वो अपने गांव वाले मकान में तो बाकी समय खेत में रहता है। खेत में मकान बनाने उसने गांव वाले मकान से निकले पत्थरों को लेकर आना था। लेकिन इससे पहले ही 5 नवंबर की रात पत्थरों से भरा ट्रैक्टर नोहटा थाने के पुलिसकर्मी थाने ले आए।

सुबह जब उत्तम थाने पहुंचा तो पुलिस ने कहा कि यह वन अपराध है, इसलिए वन विभाग कार्रवाई करेगा। जब उत्तम ने वन विभाग के अधिकारियों से संपर्क किया और कहा कि चोरी के पत्थर नहीं है, बल्कि उसके घर से निकले हैं तो वनकर्मियों ने कहा कि कोई बात नहीं मामला रफा-दफा हो जाएगा। मामले की जांच सगोनी बीट के डिप्टी रेंजर राधेश्याम श्रीवास्तव के पास आई तो उन्होंने कहा कि 10 हजार रुपए लगेंगे।

परेशान होकर उत्तम ने पहली कि श्त के रूप में डेढ़ हजार रुपए दे दिए। शुक्रवार को दूसरी कि श्त के 7 हजार देने की बात हुई थी। तय रणनीति मुताबिक पीड़ित ने डिप्टी रेंजर को बाकी की रकम देने किल्लाई नाके के पास बुलाया। यहां जैसे ही डिप्टी रेंजर ने रकम ली पहले से घात लगाए बैठी लोकायुक्त टीम ने उसे धरदबोचा।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket