दमोह। जब ट्रेन में कोई पूछेगा कि आप कहां के हो, तो ये बताने में भी शर्म लगेगी कि हम दमोह के हैं। क्योंकि जैसे ही हम कहेंगे कि हम दमोह के हैं तो लोग यही कहेंगे कि अच्छा ये वही दमोह है, जहां का विधायक पैसों में बिक गया था। यह बात जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष अजय टंडन ने गुरूवार को जिला किसान कांग्रेस की चिंतन बैठक के दौरान कही। उन्होंने कहा कि यदि जाना ही था कि उस समय चले जाते जब बाकी विधायक गए थे, उस समय इतना दुख नहीं होता उन्होंने कहा कि ये तो वैसा ही हो गया जैसे मरीज को इलाज की बहुत जरूरत हो और डॉक्टर इंजेक्शन लेकर जाए और मरीज से कहे कि पहले उसे पैसे दो वरना वह इंजेक्शन नहीं लगाएगा अौर डॉक्टर के इसी लालच में मरीज की जान चली जाए। राहुल ने ऐसे समय साथ छोड़ा है, जब उसकी सबसे ज्यादा जरूरत थी। मेडिकल कॉलेज तो बहाना है, सब जानते हैं कितने में बिके श्री टंडन ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा में जाने के बाद राहुल कहते हैं कि मेडिकल कॉलेज नहीं मिला, इसलिए कांग्रेस छोड़ी थी, जबकि सब जानते हैं कि मेडिकल कॉलेज तो एक बहाना है। उन्होंने अपना कट, अपना रेट बढ़ाने के लिए ये सब किया। उन्होंने पैसा कितना लिया यह किसी से छिपा नहीं है। कांग्रेस से भाजपा में पहुंचे दमोह विधायक राहुल सिंह को लेकर अब कांग्रेसी आक्रोशित हैं और उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन और नारेबाजी के अलावा अब शहर में लगे उनके पोस्टरों पर कालिख पोतना भी शुरू कर चुके हैं। गुरुवार को भी कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने शहर के कुछ फ्लेक्स पर लगी राहुल सिंह की फोटो पर कालिख पोत दी।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस