दमोह(नईदुनिया प्रतिनिधि)। गोदाम और राशन की दुकान के बीच हमेशा ही राशन गायब होता है इसके लिए शासन ने एक बार फिर ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम जीपीएस से निगरानी कराने का निर्णय लिया है इसके लिए शीघ्र ही व्यवस्था एक बार फिर प्रारंभ की जा रही है। मध्य प्रदेश स्टेट सिविल सप्लाईज कारपोरेशन लिमिटेड ने इस संबंध में जिला प्रबंधकों को निर्देश भी जारी कर दिए हैं इसमें सभी अनुबंधित वाहन चालकों को सात दिन के अंदर स्वयं के खर्चे पर यह डिवाइस लगाना अनिवार्य किया गया है। दरअसल सरकार गरीबों को पेट भर भोजन उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयास कर रही है इस बीच कालाबाजारी करने वाले नया तरीका खोज लेते हैं और राशन की कालाबाजारी करने में सफल हो जाते हैं जिले में ऐसा अनेक बार हो चुका है और वाहनों को पकड़कर उनके विरुद्ध कार्रवाई भी की जा चुकी है। इसी कारण से एक बार फिर शासन ने इस प्रकार की गतिविधियां अन्य जिलों में भी होने के कारण राशन पर निगरानी के लिए जीपीएस सिस्टम की निगरानी की योजना तैयार की है। गोदाम से राशन उठने के बाद किस मार्ग से होकर वाहन जाएगा इसका नक्शा तैयार किया जाएगा मार्ग का नक्शा जीपीएस सिस्टम में फीड किया जा रहा है।

वाहन की मिलेगी पूरी लोकेशन

जीपीएस के जरिए यह भी पता चल सकेगा कि गोदाम से निकलने के बाद कौन सा वाहन किस जगह पर कितनी देर में पहुंच रहा है यदि कोई वाहन गोदाम के रास्ते पर ना जाकर किसी दूसरे रास्ते पर जाता है तो उसकी भी लोकेशन तत्काल कंट्रोल रूम पहुंच जाएगी। साथ ही कौन सा वाहन कितने किलोमीटर चला इसकी भी पूरी जानकारी विभाग के पास होगी लेकिन यहां पर यह भी उल्लेखनीय है कि पूर्व में भी इस प्रकार से जीपीएस सिस्टम के माध्यम से इन खाद्यान्ना के ट्रकों की निगरानी लोकेशन ली जाती थी लेकिन इसके बाद भी ठेकेदार और अधिकारियों की मिलीभगत के चलते रास्ते से ही खाद्यान्ना गायब हो जाता था और इस मामले में दमोह, तेंदूखेड़ा, पथरिया में जीपीएस सिस्टम होने के बाद भी ट्रकों को पकड़ा भी गया है लेकिन अधिकारियों की मिलीभगत के चलते उन पर किसी भी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की गई।

भोपाल में रहेगी कंट्रोलिंग

परिवहनकर्त्ता के ट्रकों की मानिटरिंग के लिए कमांड एंड कंट्रोल सेंटर तैयार किया जा रहा है इसके तैयार होने पर कारपोरेशन द्वारा जीपीएस डिवाइस का जो स्पेसिफिकेशन निर्धारित किया जाएगा। वही परिवहनकर्त्ता को लगाना अनिवार्य होगा इससे संबंधित समय-समय पर जारी किए जाने वाले निर्देशों का पालन कराना भी अनिवार्य होगा।

इनका भी करना होगा पालन

परिवहनकर्त्ता को ट्रकों में जीपीएस डिवाइस स्वयं के व्यय पर स्थापित करना अनिवार्य होगा अनुबंध अवधि में जीपीएस डिवाइस को चालू रखने एवं रखरखाव की जवाबदारी परिवहनकर्त्ता की होगी जीपीएस डिवाइस को मुख्यालय की कंट्रोल सिस्टम से लिंक किया जाएगा। डिवाइस की मानिटरिंग के आधार पर भुगतान किया जाएगा द्वार प्रदाय योजना में उपयोग किए जा रहे समस्त वाहनों में अधिकतम सात दिनों में एआईएस 140 प्रमाणित जीपीएस डिवाइस ही लगाया जा सकेगा।

इनका कहना है

शासन के निर्देशों के उपरांत जिले में यह पहल शुरू की जा रही है सात दिनों में अनुबंधित वाहन मालिकों को जीपीएस लगाना अनिवार्य किया गया है। एक माह के अंदर पूरी तरह से यह प्रक्रिया प्रारंभ करा दी जाएगी।

एसकृष्ण चैतन्य

कलेक्टर, दमोह

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close