दमोह नईदुनिया प्रतिनिधि। जिले के पथरिया निवासी एक गर्भवती महिला की जिला अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई यह महिला का छटवां प्रसव था। महिला के शरीर में खून महज ढाई ग्राम था और उसका शुगर लेविल भी काफी बड़ा हुआ था। इसके अलावा उसका कोरोना का एंटीजन टेस्ट भी पाजीटिव आया था। अस्पताल प्रबंधन ने महिला का अंतिम संस्कार कोरोना गाइड लाइन के तहत करने की बात कही थीं लेकिन स्वजन जबरदस्ती शव अपने साथ ले गए।

महिला के संबंध में जानकारी देते हुए जिला अस्पताल की सिविल सर्जन डा. ममता तिमोरी ने बताया कि पथरिया से एक महिला को प्रसव के लिए उसके स्वजन गुरूवार की रात जिला अस्पताल लेकर आए थे। जब उसकी जांच की गई तो शरीर में खून ढाई ग्राम था और महिला काफी कमजोर थी इसके अलावा उसकी सुगर भी काफी बड़ी हुई थी और बच्चा पेट में आड़ा हो गया था इसलिए महिला को काफी परेशानी हो रही थी। एहतियात के तौर पर उसका एंटीजन टेस्ट कराया था जो पाजीटिव निकला और इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

सिविल सर्जन डा. तिमोरी ने बताया कि महिला का एंटीजन टेस्ट पाजीटिव था लेकिन अभी उसकी आईटीपीसीआर की रिपोर्ट नहीं आई है। इसके अलावा शरीर में खून की कमी, शुगर लेवल का बड़ा होना और बच्चे के पेट में आड़ा हो जाने की वजह से महिला की हालत काफी गंभीर बनी हुई थी और इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। अभी यह नहीं कहा जा सकता कि महिला की मौत कोरोना की वजह से हुई या उसकी गंभीर हालत के चलते। महिला का अंतिम संस्कार नगर पालिका के द्वारा करवाने की बात स्वजनों से कही थी क्योंकि वह पाजीटिव भी थीं लेकिन स्वजन मानने तैयार नहीं थे और जबरदस्ती करते हुए शव अपने साथ ले गए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local