Ram Mandir Bhoomi Pujan : ओपी सोनी. दमोह। छह दिसंबर 1992 को अयोध्या में ढहाए गए बाबरी ढांचे की प्रत्यक्ष गवाह रहीं डॉ. सुधा मलैया अभी अयोध्या में हैं। वे बुधवार को अयोध्या में होने वाले श्रीराम मंदिर निर्माण के भूमिपूजन में शामिल होने के लिए पहुंची हैं। अयोध्या के रामजन्म भूमि विवाद से उनका खासा नाता है, जिसके अनेक प्रमाण उनके पास हैं। जिस समय विवादित ढांचा ढहाया जा रहा था, वह वहीं पर मौजूद थीं।

उन्होंने अपनी आंखों के सामने बहुत कुछ देखा था। इसके बाद इतिहासकार व पुरातत्वविद के तौर पर उन्हें 13 दिसंबर को फिर अयोध्या जाने का मौका मिला। खुदाई में निकले 12वीं सदी के 20 पंक्तियों के नागरीलिपि और संस्कृत भाषा के विष्णुहरि शिलालेख का उन्होंने अनुवाद किया था, जिसे बाद में कोर्ट में एक साक्ष्य के तौर पर पेश कि या गया। पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया की पत्नी डॉ. सुधा मलैया ने बताया कि यदि वे भी कारसेवक बनकर अयोध्या पहुंचतीं तो शायद वो सब नहीं कर पातीं, जो उन्होंने वहां किया था।

उन्होंने खुद को कारसेवकों की पहचान से दूर रखा और कैमरों से लैस होकर अयोध्या के हर दृश्य को कैद किया। उस समय अनेक अवशेष सामने आए। अचानक ही माहौल बिगड़ा और कर्फ्यू के हालात बन गए। उन्हें लगा कि उन्होंने जो कुछ कैमरों में कैद किया है, वह आगे बहुत काम आएगा, लेकि न यदि वह पकड़ी गईं तो कुछ भी नहीं बचेगा। इसलिए उन्होंने अपने साथ के लोगों को सामग्री वितरित की और कैमरे की कुछ रील अपने पास छिपाकर वहां से निकल गईं।

यह लिखा था शिलालेख में

उन्होंने बताया कि छह दिसंबर 1992 को बाबरी ढांचे के मलबे से जो 12वीं शताब्दी का विष्णुहरि शिलालेख निकला था कि उसकी आंखों देखी गवाह थीं। इसके बाद वह दोबारा 13 दिसंबर को फिर अयोध्या पहुंचीं और उन्होंने उस महत्वपूर्ण साक्ष्य शिलालेख की जानकारी साझा की। डॉ. सुधा ने बताया कि उस शिलालेख का अनुवाद उन्होंने ही किया था, जिसमें श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण और उसका निर्माण कराने वाले राजा अनयचंध तथा साकेतमंडल और उसकी राजधानी अयोध्या का उल्लेख था।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020