दमोह। शहर के नयाबाजार क्रमांक दो मल्लपुरा क्षेत्र में वर्ष 2016 में दोहरे हत्याकांड में शुक्रवार को पंचम अपर सत्र न्यायाधीश ने आरोपितों को दोषी मानते हुए दोहरे आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी करने वाले अतिरिक्त लोक अभियोजक अनुनय श्रीवास्तव ने बताया कि वर्ष 2016 में मल्लपुरा क्षेत्र में हत्याकांड हुआ था, जिसमें पीड़ित पक्ष की शिकायत पर पुलिस ने जग्गू उर्फ जगमोहन, अशोक गोली उर्फ गुलाब आरोपित बनाया था।

मामले की सुनवाई पंचम अपर सत्र न्यायाधीश के यहां चली। अधिवक्ता श्री श्रीवास्तव ने बताया कि नौ मई 2016 को मृतिका आरती और उसके पति मृतक देवेंद्र की मकान के बंटवारे को लेकर आरोपितों से विवाद हुआ, जिस पर आरोपितों ने दोनों पर केरोसिन डालकर आग लगा दी थी।

अभियोजन की ओर से अपने मामले के समर्थन में 15 अभियोजन साक्ष्यों का परीक्षण कराया गया। जबकि बचाव की ओर से अभियुक्त गण ने घटनास्थल पर न होने की बात करते हुए दो साक्षी का परीक्षण बचाव साक्षी के रूप में कराया गया, लेकिन अतिरिक्त शासकीय अधिवक्ता श्रीवास्तव के कथनों के आगे आरोपितों की बात झूठ साबित हुई और न्यायाधीश अधिवक्ता श्रीवास्तव के कथनों से इस बात पर सहमत हुए कि मरने वाला व्यक्ति कभी झूठ नहीं बोलता और मरणासन्ना कथन को संपुष्ट मानते हुए आरोपितों को आजीवन कारावास की सजा और एक हजार के अर्थदंड से दंडित किया।

न्यायाधीश ने यह सजा मृतक पति व पत्नी की हत्या के आरोप में अलग-अलग तय की, इसलिए आरोपितों को दोहरे आजीवन की सजा सुनाई गई है। हालांकि दोनों सजाएं आरोपित एक साथ पूरी करेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस