घटेरा नईदुनिया न्यूज।

जबेरा ब्लाक के घुटकुवां गांव से जंगल में पर्वत श्रृंखला के बीच स्थित सिद्ध धाम चुड़का परिसर में पंच कुंडीय श्री विष्णु महायज्ञ का धार्मिक आयोजन 10 जनवरी से चल रहा था जिसका समापन 17 जनवरी सोमवार को हवन-पूजन, विशाल भंडारे के साथ हुआ। इस धार्मिक आयोजन में श्रीश्री 1008 पंच कुंडीय श्री विष्णु महायज्ञ, श्रीमद् भागवत कथा एवं रास मंडल का आयोजन किया गया था वहीं प्रतिदिन यज्ञ में देव आहुतियां के साथ दोपहर में श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ और शाम को रासलीला का मंचन किया गया।

पूज्य संत श्री हित गोविंद नंदन दास महाराज के प्रवचन, क्षेत्रीय श्रद्धालुओं के द्वारा भजन-कीर्तन श्री विष्णु महायज्ञ यज्ञचार्य पंडित रामगुलाम गौतम गढ़िया, कथा प्रवक्ता कृष्णकांत गौतम, वृंदावन धाम दमोह द्वारा श्रीमद् भागवत ज्ञान यज्ञ सप्ताह के साथ हित गोविंद नंदन दास मुरली वाले बापू महाराज के सानिध्य में रास मंडल रंगकर्मी द्वारा शाम को रास लीला मंचन को देखने लोग शामिल हो रहे थे। धार्मिक आयोजन में घटेरा, हरदुआ, घुटकुंवा, गोला पट्टी, मनगवां मानगढ़, गढ़िया, चंद्रपुरा, मोहली, मडिया, बनवार, चौबीसा क्षेत्र सहित जिले के अन्य क्षेत्रों से श्रद्धालुओं ने शामिल होकर धर्म लाभ उठाया।

सिद्ध धाम स्थल प्राकृतिक सौंदर्य से है भरपूर

बनवार। शून्य नदी बनवार घाट वाले सिद्ध धाम में क्षेत्र का प्राचीन मनोरम स्थल है। चारों ओर फैली हरियाली घने पेड़, शून्य नदी का विहंगम नजारा देखकर यहां आने वाले भक्तों को अपार शांति का अनुभव मिलता है। हर वक्त शिव भक्तों का आना-जाना बना रहता है। यहां के ग्रामीण तो यह कहते हैं यहां का प्राकृतिक सौंदर्य किसी स्वर्ग से कम नहीं है। शिव पिंडी अब गर्भ में दिखाई देने लगी है। स्थानीय शिव भक्त राम शंकर, मनोज चौरसिया का मानना है कि शिव जी के नाम पर जल अर्पण करने की गिरती जलधारा से एक पत्थर पर शिव पिंडी की आकृति उभरती चली जा रही है जोकि शिव भक्तों के प्रमुख आस्था के केंद्र में इस स्थान की प्रसिद्धि क्षेत्र में वर्षों से बनी हुई है। स्थानीय लोगों ने बताया पहले तो जलधारा पत्थर पर पड़ने से उभरी शिव पिंडी की आकृति बहुत छोटी व स्पष्ट समझ में नहीं आती थी लेकिन धीरे-धीरे शिव पिंडी की आकृति स्पष्ट दर्शन दे रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local