दमोह, मड़ियादो,नईदुनिया न्यूज। रजपुरा थाना क्षेत्र के सेमरा गांव में सरसों की लहलहाती फसल पर पुलिस की उपस्थिति में ट्रैक्टर चलाया गया और करीब एक एकड़ में लगी हुई फसल को पूरी तरीके से चौपट कर दिया गया। दरअसल जिस जमीन पर फसल नुकसानी का निंदनीय खेल हुआ उस जमीन पर स्थानीय ग्रामीण सालों से खेती करते आ रहे थे और हाल में ही दो साल पहले हटा विधायक द्वारा खरीद ली गई। जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि अभिषेक जैन द्वारा मौका स्थल पर पहुंचकर लहलहाती फसल का नुकसान रोकने की मांग की व विधायक से दो माह तक रुकने की चर्चा दूरभाष पर की गई। ग्रामीणों ने मौके पर कहा कि कुछ दिन बाद यह कार्रवाई करते तो हम लोगों को फसल का नुकसान नहीं उठाना पड़ता।

विवादित है जमीन :

बता दे कि सेमरा की भूमि पर स्थानीय ग्रामीण कब्जा कर तीन पीढ़ियों से खेती करते आ रहे है। दो साल पहले यह भूमि हटा विधायक पीएल तंतुवाय द्वारा क्रय कर ली गई। ग्रामीण महिला बड़ी बहू यादव का आरोप है कि ऊक्त भूमि की खरीद-फरोख्त में जालसाजी हुई है, यह जमीन आदिवासी वर्ग को आवंटित थी और कैसे यह जमीन बिक्री हो गई समझ से परे है। उन्होंने आरोप लगाया विधायक द्वारा अपने रूतबे का गलत इस्तेमाल करते हुए इस जमीन को क्रय किया गया है यह गलत है।

फसल कटने के बाद हटा लेते अतिक्रमण :

ग्रामीणों के अनुसार विधायक की भूमि विवाद से जुड़े तीन लोग जेल में है और इधर फसल हटाकर विधायक को कब्जा दिलाने की कार्रवाई शुरू हो गई। मौके पर उपस्थित महिलाओं ने बताया की जमीन विधायक के सुपुर्द थी यह बात अलग है लेकिन हम लोग कई वर्षों से खेती कर रहे थे सो इस साल भी करने लगे। यह अतिक्रमण हटाना तो पहले रोक देते लेकिन खड़ी फसल कुचलकर पेट पर लात मारी है। वहीं जेल गए तीन अतिक्रमणकारियों में से दो अतिक्रमण करने वाले दरबारी यादव व धजिया अहिरवार द्वारा जमीन छोड़ने का शपथपत्र दिया गया जिसके बाद उनकी जमानत हो गई।

इनका कहना है

विधायक से बात की गई कि लहलहाती फसल का नुकसान मत करो, ओर दो महीने बाद कब्जा ले लेना लेकिन वह नहीं माने जनता के साथ किए इस अन्याय की निंदा करते है।

अभिषेक जैन

प्रतिनिधि जिला पंचायत सदस्य, मड़ियादो

इनका कहना है

भूमि के मालिकाना हक से जुड़े लोगो द्वारा मौका स्थल पर जमीन पर कब्जा किया जा रहा था, विवाद की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची थी।

राजीव पुरोहित

थाना प्रभारी, रजपुरा

जमीन मेरे पुत्र के नाम पर है, जिस पर वह लोग कब्जा किये थे। एक साल से कब्जा छोड़ने की बात कह रहे हैं लेकिन वह नहीं मान रहे। मोहलत जैसी कोई बात ही नहीं बनती क्योंकि एक साल से मना कर रहे उन्हें की मेरी जमीन छोड़ दो।

पीएल तंतुवाय, विधायक, हटा

इनका कहना है

अवैध कब्जाधारियों के खिलाफ भू राजस्व संहिता की धारा 250 के तहत बेदखली आदेश पारित हुए थे। जमीन खाली न करने पर उनके खिलाफ सिविल जेल की कार्रवाई की गई।

अभिषेक सिंह ठाकुर

एसडीएम, हटा

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close