तेंदूखेड़ा(नईदुनिया न्यूज)। शासन द्वारा गरीबों को मुफ्त में अनाज दिया जाता है, लेकिन राशन दुकान संचालकों की नीयत गरीबों के इस अनाज पर भी आ जाती है। कभी वे कई महीनों तक राशन वितरित नहीं करते तो कभी चोरी छिपे राशन बेचने का प्रयास करते हैं। ऐसा ही मामला तारादेही थाना क्षेत्र अंतर्गत कोटखेड़ा गांव में सामने आया। जहां स्व सहायता समूह के द्वारा गरीबों को बटने आया खाद्यान्न चोरी छिपे ट्रैक्टर में लोडकर उसे बेचने का प्रयास किया जा रहा था जिसे भगवती मानव कल्याण संगठन के सदस्यों ने पकड़ लिया।

बिकने जा रहा था अनाज :

कोटखेड़ा में ग्रामीणों ने भगवती कल्याण संगठन के सदस्यों साथ जिस ट्रैक्टर को पकड़ा हैं उसमें अनाज भरा हुआ था और ग्रामीणो का आरोप है कि वह अनाज राशन दुकान का है जो ग्रामीणो को वितरण होना था, लेकिन स्वसहायता समूह वालों ने वितरण नही किया और सुबह-सुबह ट्रैक्टर में भरकर उसे विक्रय के लिए गांव से ले जाया जा रहा था। जिसकी भनक भगवती मानव कल्याण संगठन के सदस्यों को लग गई और उन्होंने ग्रामीणों के सहयोग से उसे पकड़ लिया। कोटखेड़ा निवासी दुर्जन सिंह ने बताया कि ये अनाज आधा है इससे दोगना अनाज अभी भी घरों में रखा हुआ है। रामसिंह लोधी भगवती कल्याण संगठन के सदस्य ने बताया कि यह अनाज पूर्व में ग्राम पचायत भंवन में रखा जाता था, लेकिन जबसे शारदा स्वसहायता समूह को राशन दुकान मिली हैं उसके बाद राशन पंचायत की जगह घरों में रखा जाने लगा और आज सुबह वही अनाज बिक्री के लिए जा रहा था। जिसे ग्रामीणों ने पकड़ा तो चालक ने तेज रफ्तार से ट्रैक्टर को पंचायत भवन ले जाकर खड़ा कर दिया।

ट्रैक्टर में था 120 बोरी चावल :

जब ट्रैक्टर को ग्रामीणों की मदद से भगवती मानव कल्याण संगठन ने पकड़ा उस समय ट्रैक्टर में 120 बोरी के लगभव चावल भरा था। बाद में पुलिस आई और ट्रैक्टर को तारादेही थाना ले गई। साथ में मौके पर फूड इंस्पेक्टर भी पहुंच गए, लेकिन उस दौरान उस सभी ग्रामीणों को पुलिस ने भगा दिया जिन्होंने ट्रैक्टर पकड़ा था। ग्रामीणों का आरोप है कि ना तो उनकी बात को थाना प्रभारी ने सुना नहीं फूड इंस्पेक्टर ने साथ ही पुलिस ने ये जरूर कहा कि यदि ये भागते नही है तो सभी पर कार्रवाई की जाती।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close