दमोह नईदुनिया प्रतिनिधि। तीन दिन से जिले में घूम रहे तेंदुए का रेसक्यू आपरेशन नहीं हो पाया और वह शुक्रवार को तेजगढ़ रेंज की भैंसखार बीट होते हुए आगे बढ़ गया है। दमोह डीएफओ ने बताया कि यह पूरा जंगल आगे से नौरादेही अभयारण्य में लगा हुआ है इसलिए तेंदुआ नौरादेही में ही प्रवेश कर जाएगा। जिसके चलते पन्नाा टाईगर रिजर्व की टीम वापस हो गई है और तेजगढ़ व झलौन की वनटीम गांव में डेरा जमाए हुए है।

गौरतलब हो कि 26 जनवरी को देहात थाना के देवरान गांव में तेंदुए ने छह लोगों को एक-एक कर घायल किया था और सभी घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया था। सूचना मिलते ही सागर नाका चौकी पुलिस और वनविभाग की टीम मौके पर पहुंची थी जहां तेंदुआ छिपा हुआ था। तेंदुए को पकड़ने के लिए पन्नाा टाईगर रिजर्व की टीम को भी अगले दिन बुलवा लिया गया था लेकिन तेंदुआ वहां नहीं मिला और शाम को उसने नोहटा थाना अंतर्गत मौजीलाल खमरिया में एक युवक को घायल किया। जिससे इस बात की पुष्टि हो गई कि तेंदुआ देवरान से होते हुए मोजीलाल खमरिया पहुंच गया है और वनविभाग की टीम के साथ पन्नाा टाईगर रिजर्व की टीम भी तेंदुए को पकड़ने मौके पर पहुंच गई थी। तेंदुए को पकड़ने के लिए खेत के चारों ओर पिंजरे रखवाए गए थे साथ ही ड्रोन कैमरे से उसकी लोकेशन ली जा रही थी। ड्रोन कैमरे में तेंदुआ एक खेत में आराम करता हुआ दिखाई दे रहा था जिससे वनविभाग को उम्मीद थी कि शुक्रवार को उसका रेसक्यू कर उसे पकड़ लिया जाएगा लेकिन वह लापता हो गया।

इसके बाद शुक्रवार की सुबह तेजगढ़ रेंज की भैंसखार बीट के जंगलों में तलैया के आसपास तेंदुए के पद चिन्ह वन विभाग की टीम को मिले लेकिन तेंदुआ वहां से गायब हो गया। जानकारी देते हुए दमोह डीएफओ एमएस उइके ने बताया कि तेंदुए के पदचिन्ह तेजगढ़ रेंज की भैंसखार बीट में मिले हैं लेकिन तेंदुआ वहां से गायब है। यह पूरा जंगल आगे चलकर नौरादेही अभयारण्य में लगा हुआ है। इसलिए इस बात की संभावना है कि तेंदुआ अब नौरादेही में प्रवेश कर जाएगा और वह रहवासी इलाकों से काफी दूर हो गया है। इसलिए पन्नाा टाईगर रिजर्व से रेसक्यू करने आई टीम भी वापस हो गई है। एहतियात के तौर पर तेजगढ़ और झलौन वनपरिक्षेत्र का अमला मौके पर मौजूद है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local