दमोह। हटा निवासी चर्चित देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड की हटा न्यायालय सुनवाई चल रही है। 28 नवंबर को सुनवाई के दौरान सभी हत्याकांड के सात आरोपित एक जैसी पोशाक पहनकर और मंकी कै प लगाकर पहुंचे, ताकि गवाह उन्हें पहचान न सकें। एक आरोपित ने तो अपनी मूछें तक कटवा दी, लेकि न इसके बाद भी गवाह ने आरोपितों को पहचान लिया। इस सुनवाई के दौरान हटा न्यायालय पुलिस छावनी में तब्दील था।

दोनों पक्ष के अधिवक्ताओं की संख्या अधिक होने के कारण न्यायाधीश ने खुले परिसर में न्यायालय की कार्‌रवाई की, इस दौरान माइक की व्यवस्था भी की गई थी, न्यायाधीश व अधिवक्ताओं तक कार्‌रवाई की आवाज आसानी से पहुंच सके । बता दें कि करीब डेढ़ साल पहले हटा निवासी कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरिसया की हत्या हुई थी, जिसमें पथरिया विधायक रामबाई परिहार के पति, उनके देवर, व अन्य स्वजनों के साथ जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटैल के बेटे पर हत्या का आरोप लगा था। इस मामले में न्यायालय के विशेष आदेश के तहत रामबाई के पति गोविंद सिंह जेल से बाहर हैं, बाकी सभी आरोपित जेल में बंद है। कु छ दिन पहले इस मामले की ट्राइल शुरु हुई है, जिसमें मृतक देवेंद्र चौरसिया के भाई महेश चौरासिया के बयान न्यायालय में दर्ज कि ए गए थे।

इसके बाद वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जेल से ही आरोपितों कीपहचान की प्रक्रिया होना थी, लेकि न बेहतर कनेक्टविटी न होने के कारण पहचान कराने की कार्‌रवाई नहीं हो पाई। इसके बाद न्यायाधीश ने एक आदेश जारी करते हुए सभी सभी आरोपितों को 28 नवंबर को न्यायालय में पेश होने के लिए कहा था। तय तारीख को कड़ी सुरक्षा के बीच हथकड़ी में सभी आरोपित न्यायालय पहुंचे। सभी ने एक सी ड्रेस पहन रखी थी और मंकी कै प भी लगा रखा था, ताकि मुख्य गवाह मृतक देवेंद्र चौरसिया के भाई महेश चौरसिया उन्हें पहचान न सके , लेकि न उन्होंने न्यायाधीश के सक्षम सभी को पहचान लिया। इस परीक्षण के बाद गवाह महेश चौरसिया का आंशिक क्रॉस भी हुआ। इसके बाद आगे की कार्‌रवाई के लिए न्यायाधीश ने 17 दिसंबर की तारीख तय की है। इसके बाद 18 दिसंबर तक मृतक देवेंद्र के पुत्र सोमेश की गवाही होना संभावित है।

सास को बचाने के प्रयास में बहू भी झुलसी

दमोह। हिंडोरिया थाना अंतर्गत आने वाले ग्राम टिकरी में बुधवार को सास को चक्कर आने पर वह गिरने लगी तो बहू उसे बचाने दौड़ी तभी सास का हाथ जलती आग पर पड़ गया और कपड़ो में आग लग गई जिसे बचाने के प्रयास में बहू भी झुलस गई। दोनों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के अनुसार सास मथुरा पति गुलाब सुबह जलती आग के पास खड़ी थी इसी दौरान उसे चक्कर आने लगा और वह जमीन पर गिरने लगी तो उसकी बहू विनीता बचाने पहुंची, लेकि न सास का हाथ जलती आग पर गिर गया और आग लग गई जिससे सास झुलस गई और बुझाने के प्रयास में बहू भी घायल हो गई। दोनों घायलों को 108 की मदद से जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस